पीएम के टीवी 'साक्षात्कार' से मिला स्पष्ट सन्देश! Narendra Modi interview, Arnab Goswami, Mithilesh

*लेख के लिए नीचे स्क्रॉल करें...


हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बखूबी जानते हैं कि कब क्या करना है और कब 'चुप' रहना है. द्वितीय विश्व युद्ध के समय इंग्लैण्ड के प्रधानमंत्री रहे विंस्टल चर्चिल की भी कुछ ऐसी ही खूबी थी और उनका कथन कहीं पढ़ा था कि 'अच्छा नेता वह है जो जानता है कि कब क्या 'बोलना' है, लेकिन सबसे अच्छा नेता वह है जो जानता है कि कब उसे 'चुप' रहना है. जाहिर है, अगर राजनीति में आप हर बात का जवाब देने लगेंगे तो सिर्फ और सिर्फ 'विवाद' ही होंगे और इसके साथ यह बात भी उतनी ही सच है कि अगर आप विभिन्न मसलों पर मजबूती से 'जवाब' नहीं देंगे तो आपको 'मौनमोहन जी' की श्रेणी में डाल दिया जाएगा. ऐसे में 'संतुलन' सबसे बढ़िया विकल्प है. पहले आप इस बात का पूरा आंकलन कर लो कि आप को क्या बोलना है और तब तक जीभ में गाँठ लगा लो, जब तक सही वक्त न आ जाए. फिर बोलो और सबकी बोलती 'बंद'! यदि क्रमवार देखें तो, एनएसजी में भारत को एंट्री नहीं मिलने से जो निराशा लोगों के मन में थी, सुब्रमण्यम स्वामी के विवादित बोलों पर जो सवाल उठ रहे थे, कांग्रेस पार्टी द्वारा राज्यसभा में सहयोग नहीं किया जा रहा है, पाकिस्तान के साथ नीति पर जो प्रश्नचिन्ह उठ रहे थे, उन सबका बेहद ठोस और स्पष्ट जवाब दिया है प्रधानमंत्री ने! निजी चैनल "टाइम्स नाउ" को दिए प्रधानमंत्री मोदी के साक्षात्कार (Narendra Modi interview) ने विभिन्न मोर्चों पर जनता के मन में उठ रहे सवालों का ही निदान किया है. बताते चलें कि प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी का किसी भी प्राइवेट चैनल को दिया गया ये पहला साक्षात्कार है और इस इंटरव्यू को लिया है टाइम नाउ के तेज तर्रार पत्रकार 'अर्नब गोस्वामी' ने! 
 इसे भी पढ़ें: रिजर्व बैंक, राजन एवं सुब्रमण्यम स्वामी 
Narendra Modi interview, Arnab Goswami
जी हाँ, यह वही अर्नब गोस्वामी हैं, जो अपने तीखे-सवालों से सामने वाले की बोलती बंद कर देते हैं. हालाँकि, कई बार वह कुतर्क ही करते हैं, पर उनकी भी तारीफ़ करनी होगी कि प्रधानमंत्री पद की गरिमा का उन्होंने ख्याल रखा और लगभग सभी 'मुद्दों' पर प्रधानमंत्री से जवाब भी लिया. हालाँकि, कांग्रेस पार्टी को इस बात का मलाल है कि प्रधानमंत्री ने 'प्रेस-कॉन्फ्रेंस' क्यों नहीं की, जहाँ पार्टी-विशेष के पेड-पत्रकार पीएम से 'उलजुलूल' सवाल करते! सच कहा जाए तो कांग्रेस पार्टी को पीएम से इस तरह की मांग करने का कोई औचित्य ही नहीं बनता है, क्योंकि जहाँ सरकार को उसके कामों के लिए घेरा जाना चाहिए, यानि सदन, वहां तो कांग्रेस पार्टी काम चलने ही नहीं देती है! जाहिर है, सिर्फ विरोध के लिए विरोध करना कांग्रेस की मानसिक समस्या बन चुकी है अन्यथा जब समस संसार 'अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस' पर उत्साहपूर्ण ढंग से लगा हुआ था तब ठीक एक दिन पहले कांग्रेसी युवराज राहुल गांधी देश से बाहर चले गए! वैसे उनको कोई स्वास्थ्य-समस्या थी नहीं और अब वह लाख कहें कि उनको कोई जरूरी काम था, किन्तु भारतवासी जानते हैं कि मोदी-विरोध (Narendra Modi interview) के नाम पर कई बार कांग्रेस पार्टी 'देश-विरोध' की हद तक चली जाती है. कांग्रेस के प्रवक्ताओं की ख़ुशी तब और झलक रही थी, जब न्यूक्लियर सप्लायर ग्रुप में भारत का प्रयास 37 देशों के पक्ष में रहने के बावजूद 10 देशों के विरोध की वजह से गिर गया! जाहिर है, देश की जनता इसे खूब देख रही है और सोशल मीडिया पर यह भड़ास निकल भी रही है, किन्तु कांग्रेस समझे तब न! 
इसे भी पढ़ें: राजन और उनके संभावित उत्तराधिकारी!
Narendra Modi interview, Arnab Goswami, India, China, USA Relations
जहाँ तक इस साक्षात्कार का सवाल है तो लगभग एक सवा घंटे चले इस इंटरव्यू में देश- विदेश, राजनीति, अर्थव्यवस्था से लेकर नेताओं के बिगड़ते बोल तक हर मुद्दे पर पीएम मोदी बड़े ही आराम से तथा विस्तार में अपनी बात रखते देखे गए. यहाँ तक कि एनएसजी के मुद्दे पर चीन के टांग अड़ाने की बात को भी काफी संजीदगी के अंदाज में कहा कि ‘‘चीन के साथ हमारी कोई एक समस्या नहीं है, बल्कि चीन के साथ कई मसले उलझे पड़े हैं!" जाहिर है चीन के साथ भारत की कई मुद्दों पर राय अलग है और यह कोई आज का विषय नहीं है. पर पीएम का यह कथन महत्वपूर्ण है कि 'भारत चीन की आंखों में आंखे डालकर बात कर रहा है और स्पष्ट तरीकों से देश के हितों को आगे रख रहा है. जहाँ तक बात एनएसजी की है तो उसके अपने कायदे हैं और पीएम के अनुसार देश उन कायदों के हिसाब से आगे बढ़ेगा! हालाँकि हमारे प्रधानमंत्री की उदारतापूर्ण बातें (Narendra Modi interview) लोगों के गले नहीं उतर रही हैं, क्योंकि एनएसजी में प्रवेश को बेवजह एक राष्ट्रीय मुद्दा बना दिया गया था जो नहीं होना चाहिए! अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्धों को घरेलु-मोर्चे पर उन्माद पैदा करने या राजनीतिक लाभ लेने का जरिया बनाने से कई बार नुक्सान हो जाता है, यह बात पार्टी-प्रचारकों और कार्यकर्ताओं को समझनी चाहिए! इसी कड़ी में, जब पत्रकार ने पाकिस्तान के द्वारा लगातार आतंकी गतिविधियाँ करने और कश्मीर में जवानों के मारे जाने के सन्दर्भ में प्रधानमंत्री की प्रतिक्रिया जाननी चाही तो उन्होंने कहा कि दुनिया अब मानती है कि भारत आतंकवाद की जिस समस्या का सामना कर रहा है, वह पाकिस्तान से उत्पन्न होती है. 
Narendra Modi interview, Arnab Goswami, India, Pakistan
लक्ष्मण-रेखा के सवाल पर मोदी ने उल्टा सवाल किया कि ‘‘पाकिस्तान के मामले में आप किसे लक्ष्मण रेखा मानेंगे? पीएम का मतलब था कि चयनित सरकार के साथ या अन्य किसी फौजी के साथ?’’ बेहद स्पष्ट है कि ‘‘भारत को पाकिस्तान के मामले में हमेशा सतर्क रहना चाहिए.’’ हालाँकि, वर्तमान सरकार की पाकिस्तान नीति बेहद कन्फ्यूज रही है, इसे कई विशेषज्ञ स्वीकार कर चुके हैं, जिसमें खुद भाजपा के ही कई नेता हैं. शायद मोदी भी इस प्रश्न को टालना चाहते होंगे, इसलिए लगे हाथ उन्होंने मीडिया को नसीहत दे डाली कि "वह भारत में हर चीज को पाकिस्तान के संदर्भ में देखाना बंद करे.’’ हालाँकि, मोदी ने पाकिस्तान के सन्दर्भ में अपने प्रयासों का ज़िक्र जरूर किया जिसमें खुद मोदी का लाहौर जाना, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को भारत में आमंत्रित करना... इत्यादि शामिल रहा है. हालाँकि, पाकिस्तान के स्थिति पहले से भी उलझाऊ हो गयी है पर मुश्किल बात यह है कि आप हर एक देश का रवैया एक झटके में नहीं बदल सकते और खासकर पाकिस्तान जैसा देश, जिसका जन्म ही भारत-विरोध की तर्ज पर हुआ हो, वह एक मोदी के दो साल शासन में आ जाने से बदल जायेगा, यह बात सोचना ही अजीब है! यह भी दिलचस्प है कि इस इंटरव्यू (Narendra Modi interview) को सुनने के बाद उन लोगों को जबरदस्त झटका लगा होगा जो मोदी की उस शैली के दीवाने थे, जो वह चुनाव से पहले पाकिस्तान के लिए इस्तेमाल करते थे. जाहिर है तमाम राष्ट्रवादियों और आम जनता ने भी ये धारणा बना ली थी कि नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनते ही पाकिस्तान को जबरदस्त सबक मिलेगा. खैर, एक अच्छी बात यह रही इस इंटरव्यू की और वो यह है कि पिछले कुछ दिनों से अपने ऊपर भारत के प्रति वफादार न होने का इलज़ाम झेल रहे आरबीआई प्रमुख 'रघुराम राजन' का समर्थन खुल कर किया प्रधानमंत्री ने और न केवल समर्थन किया बल्कि, राजन के कार्यकाल को बेहतरीन भी बताया. इस मामले को लेकर उनके शब्दों और सन्देश में किसी प्रकार का झोल नहीं था. 

इसे भी पढ़ें:संतुलन सीखिए प्रधानमंत्री मोदी से!

Narendra Modi interview, Arnab Goswami, Subramanian Swami, Raghuram Rajan
प्रधानमंत्री ने साफ़ कहा कि उन्हें राजन के देशप्रेम पर कोई संदेह नहीं है और वह उनके काम को सराहते हैं, क्योंकि देश के प्रति उनका प्रेम निर्विवाद है. जाहिर है, कई दिनों से हमला झेल रहे रघुराम राजन को कुछ सुकून जरूर मिला होगा. आशा है, सेवानिवृत्ति के बावजूद उनकी सेवाएं देश को उपलब्ध होती रहेंगी और यही एक सच्चे देशभक्त का लक्षण भी है. वहीं अपने पार्टी के नेताओं को स्पष्ट सन्देश भी दिया कि चर्चा में बने रहने के लिए गलत बयानबाजी न किया जाये. साफ़ तौर पर सुब्रमण्यम स्वामी के बड़बोलेपन को चेतावनी दी गयी है. इसी कड़ी में, कर्ज लेकर विदेश भागने वाले आर्थिक अपराधियों के बारे में मोदी ने कहा कि उनकी सरकार उनके खिलाफ कार्रवाई को लेकर कृतसंकल्प है, तो संसद बाधित करने के मुद्दे पर  मोदी ने कांग्रेस को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा, ‘‘केवल एक पार्टी है जो समस्याएं पैदा कर रही है और पूरी दुनिया को पता है कि वह कौन सी पार्टी है.’’ काले धन को लेकर भी प्रधानमंत्री ने लोगों को आश्वासन दिया है कि सरकार इससे सम्बंधित कानून को सख्त कर चुकी है और इसकी गिरफ्त में आने वाले को इसका अंदाजा हो जायेगा. हालाँकि इस इंटरव्यू का जहाँ कई लोगों ने समर्थन किया है वहीं कुछ लोगों ने इस पर उंगली भी उठाई है, जिनका कहना है कि इंटरव्यू (Narendra Modi interview) पहले से प्रायोजित था. जाहिर है, ऐसे लोगों को 'सनसनीखेज' और 'विवादित' बातें सुनने की आदत पड़ चुकी है और उन्हें मुद्दों से मतलब नहीं होता, बल्कि सिर्फ और सिर्फ वह विवादित चीजों को ही ढूंढते रहते हैं. लोगों की ऐसी मानसिकता के कारण ही टेलीविजन पर 'बिग बॉस' जैसे प्रायोजित विवादित 'शो' किये जाते हैं. अब कम से कम ऐसी उम्मीद प्रधानमंत्री से तो नहीं पालनी चाहिए न! वैसे भी नरेंद्र मोदी नाम का शख्स विवादित बोलों को भी हैंडल करना जानता है और वह प्रधानमंत्री बनने से पहले 10 साल तक बखूबी इसको हैंडल कर चुके हैं. अपनी बात को खुल कर और स्पष्ट रूप से कहना हमारे प्रधानमंत्री की खासियत है और उन्होंने ऐसा ही किया, बाकी जनता खुद समझदार है. वह न केवल पीएम को, बल्कि उनके कार्यों के साथ-साथ विपक्ष पर भी पैनी दृष्टि जमाये हुए है.

- मिथिलेश कुमार सिंहनई दिल्ली.



यदि आपको लेख पसंद आया तो 'Follow & Like' please...





ऑनलाइन खरीददारी से पहले किसी भी सामान की 'तुलना' जरूर करें...




Narendra Modi interview, Arnab Goswami, Mithilesh
times now channel, television interview, sakshatkar, editorial, political article, Indian politics, पीएम मोदी, मोदी साक्षात्कार, पाकिस्तान, पम्पोर हमला, पीएम मोदी विदेश नीति, पीएम मोदी पाकिस्तान, PM Modi, PM Modi reacts to his Pakistan visit, PM Modi black money, Modi foreign policy, Modi इंटरव्यू, Indo-Pak Relations,modi, narendra modi news, modi news, narendra modi latest news, narendra modi live, narendra modi speech, narendra modi video, pm narendra modi, TIMES NOW, NARENDRA MODI, ARNAB GOSWAMI, FRANKLY SPEAKING,TWEET, FUNNY TWITTER, NARENDRA MODI, ARNAB GOSWAMI, 
Keyword, india pakistan, india and pakistan, india pakistan live, india pakistan war, pakistan and india, india & pakistan, india pakistan relations, india and pakistan war, pakistan on india, indian war, india pakistan conflict, pak india, pakistani in india, pakistan india war, wars in india, india pakistan partition, pak india relations, war between india and pakistan, pakistan india, partition of india and pakistan, pakistani women, hanged woman, woman hanged, pakistan war, pakistan and india war, indo pak relations, india pakistan news, indo pak war, indo pak, india pakistan map, pakistan india news, indo pak wars, girl hanging, women in pakistan, pakistan news on india, pak indo, india pakistan war 1965,


इसे भी पढ़ें:बहुसूत्रीय है मोदी की अमेरिका यात्रा

india china, china india, india and china, india china relations, china and india, china india border, china embassy, embassy of china, economy of india, embassy of india, future of india, india growth, india china news, indo china relations, prime minister of china, and india, china pm, pmindia, prime minister of india, modi india, china institute, russia india, السفارة الهندية, black money, black money in india, black money list, black economy, send money to india, money transfer to india, money to india, money exchange rates, make money online in india, indian black, money 2 india, black indian, indian money, money in india, list of banks in india, what is black money, government bank list, bank india, money2india, sharing money, subramanian swamy, dr subramanian swamy, swamy, subramaniam swamy, subramanya swamy, dr swamy, subramanyam swami, dr subramanian, subramanian, roxna swamy, subramanian swamy daughter, subramanian swamy books, subramanya swamy images, suhasini haidar subramanian swamy, swamy39, gitanjali swamy, janata party,
reserve bank of india, bank of india, rbi bank, rbi india, rbi exchange rate, rbi rates, rbi online, rbi policy, rbi website, rbi official website, rbi bank rate, role of rbi, rbi policy rates, bank rate rbi, rbi interest rate, www rbi, bank, www rbi org in, nationalised banks in india, bank of baroda india, canara bank, vysya bank, idbi, reservebankofindia, reserve bank, regions bank, bob, rbi org in, functions of rbi, rbi org, allahbad bank, dena bank, syndicate bank, about rbi, world bank, corporation bank, rbi functions, us bank, governor of reserve bank of india, rbi wiki, time bank, government banks in india,


इसे भी पढ़ें:पीएम मोदी के दो साल, सपने और हकीकत! 

Breaking news hindi articles, Latest News articles in Hindi, News articles on Indian Politics, Free social articles for magazines and Newspapers, Current affair hindi article, Narendra Modi par Hindi Lekh, Foreign Policy recent article, Hire a Hindi Writer, Unique content writer in Hindi, Delhi based Hindi Lekhak Patrakar, How to writer a Hindi Article, top article website, best hindi article blog, Indian blogging, Hindi Blog, Hindi website content, technical hindi content writer, Hindi author, Hindi Blogger, Top Blog in India, Hindi news portal articles, publish hindi article free

मिथिलेश  के अन्य लेखों को यहाँ 'सर्च' करें... ( More than 1000 Articles !!)

No comments

Powered by Blogger.