आतंकी से इतनी 'सहानुभूति', यकीन नहीं होता... hizbul mujahideen commander burhan wani killed in encounter, hindi article



जम्मू कश्मीर में कई निर्दोष और मासूमों को मौत के घाट उतार चुका एक आतंकवादी (hizbul mujahideen commander burhan) मारा जाता है और वही लोग उसके प्रति सहानुभूति जताने सड़कों पर निकल पड़ते हैं, जिनके अपने ही परिजन उसके द्वारा प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से प्रताड़ित किये गए हैं! यकीन करना मुश्किल है कि भारत जैसे उदारवादी देश में, विकसित होने के मुहाने पर खड़े देश में, हर तरह की आज़ादी वाले देश में इस तरह की मानसिकता फल-फूल रही है. इस मामले में कई अतिवादी, रूढ़िवादी सोच रखने वालों को बेशक लगता हो कि भारत में मुसलमानों को आज़ादी नहीं है, उन्हें दबाया जाता है बला, बला... किन्तु, इस सन्दर्भ में किन्हीं साहब का पहले दिया गया बयान काबिल-ए-गौर है कि 'जो मुसलमान सोचते हैं कि उन्हें भारत में आज़ादी नहीं है, वह एक बार पाकिस्तान होकर आ जाएँ और फिर उनकी ग़लतफ़हमी दूर हो जाएगी'! यूं भी मुस्लिम समुदाय को कांग्रेस जैसी पार्टियों से कोई दिक्कत नहीं रही है और भाजपा सरकार तो पहले एक कार्यकाल रही है, जिसमें अटल बिहारी बाजपेयी ही मुखिया रहे हैं, जिन्हें समूचे विश्व में सम्मान हासिल रहा है. इस बार तो मात्र 2 साल हुए हैं भाजपा सरकार को और उसकी भी सहिष्णुता-असहिष्णुता को लेकर इतनी आलोचना हो चुकी है कि 'मोदी सरकार बिचारी, भेदभाव पूर्ण नीति अपना भी नहीं सकती.' 

भारतीय सैनिक हमारे दुश्मन नहीं हैं 

hizbul mujahideen commander burhan wani killed in encounter, hindi article
ज़रा ईमानदारी से सोचा जाए तो भाजपा या कोई भी हिंदूवादी नेता 'ज़ाकिर नाईक' जैसा आतंकवादी पैदा करने वाला बयान तो नहीं ही देता है. हाँ, एकाध योगी, साक्षी महाराज जैसे लोग कुछ बुदबुदा रहे थे तो पीएम ने उनके मुंह पर ताला जड़ दिया है. ऐसे में किसी भी प्रकार का द्वेष और जम्मू-कश्मीर के लोगों द्वारा किसी आतंकवादी के पक्ष में रैली निकालना कहीं से न्यायोचित नहीं है. खुद महबूबा मुफ़्ती जैसी कश्मीरी हितों की रक्षा करने वाली सरकार है तो नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बनने के बाद वहां आयी बाढ़ में कश्मीरियों के साथ कंधे से कन्धा मिलाकर खड़े रहे हैं. ऐसे में, जाने क्यों वहां के लोगों को चंद अलगाववादी  (hizbul mujahideen commander burhan), जो खुद विदेशी फंड पर मौज करते हैं, फुसला लेते हैं. भाजपा न सही, कम से कम कांग्रेस नेताओं की बात पर तो वहां की आवाम भरोसा कर ले. इसी क्रम में कांग्रेस के दिग्गज नेता गुलाम नबी आज़ाद का बयान काबिल-ए-गौर है. हिज्बुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी के मारे जाने को लेकर कश्मीर में हो रहे प्रदर्शन को कांग्रेस ने भी ‘‘दुर्भाग्यपूर्ण’’ करार दिया है. देश की सबसे पुरानी पार्टी ने साफ़ कहा है कि लोगों को आतंकवादियों के मारे जाने पर दुखी नहीं होना चाहिए क्योंकि वे सैकड़ों निर्दोष लोगों की हत्या के जिम्मेदार हैं. 

भारत के नक्शे पर पाकिस्तान की गैर-जरूरी बेचैनी! 

hizbul mujahideen commander burhan wani killed in encounter, hindi article
इसी सन्दर्भ में बयान जारी करते हुए पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि ‘‘जहां तक बुरहान की बात है तो वह आतंकवादी था, इसमें कोई संदेह नहीं है कि वह निर्दोष नहीं था और आतंकवादी ही था. ऐसे में, यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि जब कोई आतंकवादी मारा जाता है तो कश्मीर के लोग दुख जताते हैं.’’ कश्मीरी अवाम को पाकिस्तानी टुकड़ों पर पलने वाले अलगाववादियों की बातों में कतई नहीं आना चाहिए, क्योंकि वह सिर्फ और सिर्फ कश्मीरियों की ज़िन्दगी ज़हन्नुम बनाने की ही कवायद करते रहे हैं. अंग्रेज़ों के भारत से जाने के पश्चात ही अलगाववादियों ने कश्मीरी अवाम की ज़िन्दगी को नरक  (hizbul mujahideen commander burhan)बना रखा है, जिसके लिए खुद कश्मीरी मुसलमानों को आगे बढ़कर उनका विरोध करना चाहिए. गौरतलब है कि 21 वर्षीय बुरहान वानी आतंकवाद का पोस्टर ब्वॉय था जो श्रीनगर से 83 किलोमीटर दूर कोकरनाग इलाके में शुक्रवार को सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में अपने दो सहयोगियों के साथ मारा गया. उसके मारे जाने के बाद कश्मीर के कई इलाकों में हिंसक प्रदर्शन शुरू हो गए, जबकि बेहद अजीब बात यह है कि खुद इस आतंकवादी की गर्लफ्रेंड ने उसके देश-विरोधी कार्यों से आज़िज़ आकर इस आतंकवादी की सूचना सुरक्षा-एजेंसियों को दी थी. 

मुफ़्ती का असरदार 'किरदार'

hizbul mujahideen commander burhan wani killed in encounter, hindi article
क्या कश्मीरी लोगों को इस देशभक्त लड़की से कुछ सीख नहीं लेनी चाहिए? पाकिस्तान तो दशकों से भारत और भारतवासियों को परेशान करता रहा है और खुद पाकिस्तानी नेता भी उसके कश्मीर लेने के दावों पर हँसते हुए कहते हैं कि 'पाकिस्तानी नेता पहले पाकिस्तान को तो सुधार लें, बाद में वह कश्मीर या पूरे विश्व पर दावा करें.' कश्मीरी अवाम को यह बात स्वीकार कर लेनी चाहिए कि 'खुद पाकिस्तान भारत-विरोध' पर ज़िंदा है और अपनी ज़िन्दगी के लिए वह मासूम कश्मीरियों की बलि  (hizbul mujahideen commander burhan) लेता रहता है. प्रत्यक्ष तो वह चार लड़ाइयां हमसे हार चुका है, किन्तु बुरहान जैसे कम उम्र के लड़कों को वह आतंकवादी बनाकर कश्मीरियों पर आज भी कहर ढा रहा है. काश, कश्मीर की आवाम इस बात को समझ और महसूस कर पाती!

- मिथिलेश कुमार सिंहनई दिल्ली.



यदि लेख पसंद आया तो 'Follow & Like' please...





ऑनलाइन खरीददारी से पहले किसी भी सामान की 'तुलना' जरूर करें 
(Type & Search any product) ...


hizbul mujahideen commander burhan wani killed in encounter, hindi article,
Jammu Kashmir, mahbooba mufti, gulam nabi azaad, Breaking news hindi articles, latest news articles in hindi, Indian Politics, articles for magazines and Newspapers, Hindi Lekh, Hire a Hindi Writer, content writer in Hindi, Hindi Lekhak Patrakar, How to write a Hindi Article, top article website, best hindi articles blog, Indian Hindi blogger, Hindi website, technical hindi writer, Hindi author, Top Blog in India, Hindi news portal articles, publish hindi article free

मिथिलेश  के अन्य लेखों को यहाँ 'सर्च' करें...
(
More than 1000 Hindi Articles !!)

No comments

Powered by Blogger.