धर्म के ऊपर नहीं हो सकता कानून ?

हमारे संविधान में कहा गया है कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है, लेकिन क्या यह सच में है? शायद नहीं! बल्कि, इस देश में सरकारी नीतियां धर्म से सर्वाधिक प्रभावित होती हैं तो यहाँ की राजनीति तो इसके लिए बदनाम है ही. इतिहास पलटने का कोई लाभ नहीं होगा, क्योंकि शाहबानो से लेकर दुसरे प्रकरण हमारे ज़ख्मों को उधेड़ेंगे ही. हाल के विवाद की बात करें तो, सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू कश्मीर हाई कोर्ट के उस फ़ैसले पर दो महीनों के लिए रोक लगा दी है जिसके तहत राज्य में गोमांस की बिक्री को प्रतिबंधित किया गया था. इसके साथ ही सर्वोच्च अदालत ने हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश से कहा है कि वो गोमांस की ब्रिकी और इस पर प्रतिबंध से जुड़े विवाद को सुझलाने के लिए तीन जजों की एक बेंच बनाएं. देश के उच्चतम न्यायालय के इस निर्णय को सरसरी तौर पर आप देखेंगे तो जान जायेंगे कि यह शीर्ष अदालत ने  भी इस मामले में डिप्लोमेटिक जैसा निर्णय सुनाया है. गौरतलब है कि इस मुद्दे पर न केवल जम्मू काश्मीर में, बल्कि देश भर में विवाद की स्थिति बनी हुई है. सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि इस बारे में दो बेंचों के विरोधाभासी आदेशों से असमंजस की स्थिति हो पैदा रही है. हाई कोर्ट की जम्मू बेंच ने जहां पुलिस से गोमांस की बिक्री पर प्रतिबंध को लागू करने का आदेश दिया, वहीं श्रीनगर बेंच ने गोमांस को प्रतिबंधित करने वाले प्रावधानों की वैधता को चुनौती दी थी. अब यह कहना बेहद अजीब है कि भारत के लोग आज भी उसी समस्या से जूझ रहे हैं, जो समस्या अंग्रेजी शासनकाल या उससे पहले से ही विद्यमान रही है. आखिर कौन नहीं चाहता है कि आज इक्कीसवीं सदी में लोग विकास पर अपना ध्यान केंद्रित करें और अपने बच्चों को शुद्ध भारतीय मूल्यों की शिक्षा दें, लेकिन यह अफ़सोस की बात है कि कभी मुज़फ्फरनगर तो कभी दादरी जैसी घटनाएं हो जाती हैं. ऐसे में मीडियाकर्मियों, तथाकथित बुद्धिजीवियों और तमाम धार्मिक संगठनों द्वारा बड़ी आसानी से एक दूजे पर यह आरोप लगा दिया जाता है कि उनके कारण ही इस प्रकार की घटनाएं हुई हैं, मगर क्या वास्तव में यही सच है? क्या इसके लिए कानून और सरकारी लचरता बिलकुल भी जिम्मेदार नहीं है. अगर गाय के ऊपर एक सख्त सरकारी आदेश आ जाय और उसे लागू किया जाय तो फिर विवाद की जगह ही नहीं बचेगी! वह निर्णय चाहे पक्ष में हो या विपक्ष में, शर्तों के साथ हो या शर्तों के बिना! दादरी कांड पर हो रही राजनीति पर एक नजर डालिये.
 
Opposition of Modi, hindi artilce by mithilesh, congress is againstसुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश मार्कण्डेय काटजू जैसे लोगों ने तो यह तक कह दिया कि गाय एक जानवर है, वह किसी की माता कैसे हो सकती है? तो, शोभा डे समेत दुसरे लोगों ने हिन्दू आस्थाओं की जमकर खिल्ली उड़ाई. अगर सुप्रीम कोर्ट द्वारा इस विषय पर दिशा-निर्देश जारी किया जाता है तो यह एक गाइड लाइन की तरह लोगों का मार्गदर्शन करेगी! पिछले प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह द्वारा दिया गया यह बयान कि देश के संशाधनों पर पहला हक मुसलमान, अल्पसंख्यकों का है, हिन्दुओं के प्रति असुरक्षा ज़ाहिर करने वाला बयान था. ऐसे बयानों से लगा कि पाकिस्तान और बांग्लादेश से तो हिन्दुओं का सफाया हो ही रहा है (ऐसा खुद संयुक्त राष्ट्र संघ और दुसरे देश मान रहे हैं), और भारत में भी उन्हें दोयम दर्जे का बनाने की कोशिश की जा रही है. देखा जाय तो इस प्रकार की राजनीति काफी हद तक देश में विद्वेष फैलाने का कार्य करती है. ऐसे में नेताओं को क्यों दोषी नहीं माना जाना चाहिए? और इन सबसे परे हटकर देखा जाय तो लोगों की धार्मिक पहचान कानून से ऊपर होनी ही नहीं चाहिए. आज हम इक्कीसवीं सदी में जी रहे हैं और फिर भी अगर किसी शरिया या गाय के मुद्दे को लेकर देश में विद्वेष उठ जाए तो इससे विश्व के इस सबसे बड़े लोकतंत्र पर गंभीर प्रश्नचिन्ह उठते हैं. दादरी का मुद्दा कानूनी मुद्दा हो सकता था, अख़लाक़ की हत्या के पहले और बाद भी, लेकिन यह मुद्दा राजनीतिक और उससे आगे बढ़कर सामाजिक मुद्दे के रूप में परिणित हो जाये तो इस कानून के शासन की फेल्योर ही माना जाना चाहिए. यही नहीं, इस मुद्दे पर आज़म खान संयुक्त राष्ट्र संघ जा रहे हैं तो साध्वी प्राची गौ मांस खाने वालों की हत्या को जायज़ ठहराती हैं. प्रतिक्रिया में एक और सपा नेता ने प्राची की हत्या की बात भी कही... भाजपा, कांग्रेस, केजरीवाल, ओवैसी ... ये लोग क्या-क्या कह रहे हैं इन मुद्दों पर और कानून वाकई कहाँ है अपने देश का? केंद्र, राज्य और स्थानीय स्तर का प्रशासन क्या वाकई इतना लचर है कि किसी नेता को कोई डर ही नहीं है! बल्कि, इसके उल्टा उसको यकीन है कि ऐसे मौकों पर वह बवाल काटकर समुदाय विशेष का हीरो बन सकता है! और वह ऐसा करता भी है... है कोई कानून? है कोई कोर्ट? है कोई धर्मनिरपेक्षता? कानून का शासन ही एकमात्र रास्ता है धर्मान्धता से बचने का! लोगों को यकीन होना चाहिए कि उनके साथ राजनीति नहीं होगी, बल्कि कानूनन न्याय होगा, फिर देखिये कैसे किसी अख़लाक़ की हत्या होती है और कैसे कोई आज़म या साध्वी बकवास कर पाती है? कानून को ऊपर करो... सबसे... धर्म से तो निश्चित रूप से!
India needs strict laws, against religious contradictions,
जम्मू कश्मीर, बीफ बैन, सुप्रीम कोर्ट, Beef Ban, jammu kashmir, Supreme court,दादरी कांड, संगीत सोम, इखलाक, गोमांस की अफवाह, Sangeet Som, Dadri Incident, Ikhlaq, Dadri beef killing, kanoon ka shasan, law, constitution of India

No comments

Powered by Blogger.