घास की रोटी - Ghaas ki Roti, Short Story by Mithilesh 'Anbhigya'!


राजस्थान के एक विद्यालय में कार्यक्रम चल रहा था. 
कवि, नेता, वक्ता अपनी प्रस्तुति देकर श्रोताओं को भाव-विभोर कर रहे थे. वाह-वाह, तालियों से प्रस्तोताओं का उत्साह भी आसमान छू रहा था! 

स्टेज पर मंत्री, नामी लेखक, विद्वानों के साथ हमारे इतिहास पुरुष महाराणा प्रताप के वंशज 'हुकुम' का विराजमान होना कार्यक्रम को अलग ही गरिमा प्रदान कर रहा था. 
मैं श्रोताओं की अगली पंक्ति में बैठा 'हुकुम' के तेज में महाराणा को ढूंढ रहा था तो इतिहास की हल्दीघाटी और चेतक की टापों से भारत के वीरों को याद करते हुए गौरवान्वित हुए जा रहा था. कार्यक्रम की फोटो लेने के लिए अपने महंगे स्मार्टफोन लेकर दर्शक एक दुसरे से होड़ कर रहे थे. 

यूं भी कार्यक्रमों में अपने कैमरे से फोटो लेकर फेसबुक पर डालने का मजा आधुनिक पीढ़ी बखूबी समझती है. अपने देश के प्रधानमंत्री भी तो 'सेल्फ़ी' के दीवाने हैं. 
मेरे बगल में एक हृष्ट-पुष्ट अधेड़ विराजमान थे. मोटी और तनी हुई मूंछों के साथ. साथ में एक 6-7 साल का लड़का और उससे थोड़ी बड़ी लड़की उनके साथ थे. लडकियां वैसे भी धीर-गंभीर होती हैं, लेकिन लड़का बार-बार मचल रहा था और वह महाशय उसे इशारों से चुप कर बैठने को कह रहे थे. लड़का शायद अपने पापा का फोन मांग रहा था, फोटो खींचने के लिए.

मुझसे रहा न गया और मैंने उस लड़के की वकालत कर ही दी!
बिचारे हिचक रहे थे, लेकिन बच्चे के चेहरे की ओर देखकर उन्होंने अपना फोन निकाला. वह कोई पुराना मॉडल था, ब्लैक एंड वाइट! बच्चा उसे देखकर खुश हो गया और फोटो खींचने का अभिनय करने लगा, क्योंकि कैमरा तो उसमें था नहीं. 
लड़की झेंप रही थी और चोर नजरों से मेरे हाथ में दबे स्मार्टफोन को देख रही थी.

आप इससे एक-दो फोटो निकाल दोगी, मैंने लड़की की ओर अपना फोन बढ़ाया!
पहले उसने अपने पिता की तरफ देखा, फिर मजबूती से कहा, अंकल! "मुझे नहीं आता... !"
मंच पर मंचीय कवि महाराणा प्रताप के स्वाभिमान और मुसीबत में उनके परिवार द्वारा 'घास की रोटी' खाने पर वीर-रस की कविता का पाठ कर रहे थे. 
मैंने चुपचाप अपना स्मार्टफोन जेब में रखा और सभागार से बाहर निकल आया. कवियों की अभिनय युक्त आवाज के साथ, रात गहराती जा रही थी ... 

सर्द, राजपुताना रात!

- मिथिलेश कुमार सिंह, नई दिल्ली.




Ghaas ki Roti, Short Story by Mithilesh 'Anbhigya'! (Image Courtesy: Patrika)

मिथिलेश  के अन्य लेखों को यहाँ 'सर्च' करें... (More than 1000 Hindi Articles !!)

Disclaimer: इस पोर्टल / ब्लॉग में मिथिलेश के अपने निजी विचार हैं, जिन्हें पूरे होश-ओ-हवास में तथ्यात्मक ढंग से व्यक्त किया गया है. इसके लिए विभिन्न स्थानों पर होने वाली चर्चा, समाज से प्राप्त अनुभव, प्रिंट मीडिया, इन्टरनेट पर उपलब्ध कंटेंट, तस्वीरों की सहायता ली गयी है. यदि कहीं त्रुटि रह गयी हो, कुछ आपत्तिजनक हो, कॉपीराइट का उल्लंघन हो तो हमें लिखित रूप में सूचित करें, ताकि तथ्यों पर संशोधन हेतु पुनर्विचार किया जा सके. मिथिलेश के प्रत्येक लेख के नीचे 'कमेंट बॉक्स' में आपके द्वारा दी गयी 'प्रतिक्रिया' लेखों की क्वालिटी और बेहतर बनाएगी, ऐसा हमें विश्वास है.
इस लेख से जुड़े सर्वाधिकार इस वेबसाइट के संचालक मिथिलेश के पास सुरक्षित हैं. इस लेख के किसी भी हिस्से को लिखित पूर्वानुमति के बिना प्रकाशित नहीं किया जा सकता. इस लेख या उसके किसी हिस्से को उद्धृत किए जाने पर लेख का लिंक और वेबसाइट का पूरा सन्दर्भ (www.mithilesh2020.com) अवश्य दिया जाए, अन्यथा कड़ी कानूनी कार्रवाई की जा सकती है.

No comments

Powered by Blogger.