मच्छरों से 'सहानुभूति' - Hindi poem based on mosquito


डर लगता है
मुझे ही नहीं
सबको
क्योंकि, ऐसा कोई बचा नहीं
'मच्छर' ने जिसको डंसा नहीं
जी हाँ!
एक ऐसा प्राणी
जो कभी भेदभाव नहीं करता

अमीर-गरीब, युवा-बुजुर्ग, ज्ञानी-मूर्ख पर
डंक का एक समान प्रहार करता है
शाम होते ही इनसे बचने की जुगत में
लग जाते हैं सब
दरवाजे, खिड़कियाँ बंद
क्वायल, हिट, इंसेक्ट किलर, ओडोमॉस
और जाने क्या-क्या उपाय
करते हैं सब

भई! मैं तो मच्छरदानी लगाता हूँ
कुछ हद तक ही सही
सुकून की नींद फ़रमाता हूँ
पर घुस जाते हैं उसमें भी
झुण्ड में,
जैसे पागल भीड़ खुद ही सजा देने
सड़कों पर आती हो
जैसे, हमारे जेलों में भी हत्याएं हो जाती हैं

वैसे, मच्छरदानी भी बचाव में सक्षम नहीं है
घुस ही जाते हैं दो-चार, या दस-बारह
रात के मरियल मच्छर
हो जाते हैं सुबह तक 'मुटल्ले'
नींद खुलते ही क्रोध से आँखें
हो जाती हैं 'लाल'
उनका वध करता हूँ रोज
लेकिन, आज सुबह उन मच्छरों से
'सहानुभूति' हो आयी,

सोचा, इस ब्रह्माण्ड के 'साइक्लिक' प्रोसेस में
उनका कुछ तो योगदान होगा
जीव-विज्ञान पढ़ी पत्नी ने बताया
मच्छरों के अण्डों को 'मछलियाँ' खाती हैं
इंजिनियर भाई ने बताया
मच्छरों के ऊपर तमाम उद्योगपति, डॉक्टर और
निगम के कर्मचारी रोजगार पाते हैं
पर मन कुछ और ढूंढ रहा था
मच्छरों के इतने योगदान भर से संतुष्ट नहीं हो रहा था
तभी पत्नी चिल्लाई
वह देखिये, पैर पर मच्छर बैठा है
मारिये,
हम 'डर' गए

डेंगू, चिकन गुनिया और ढेरों ख्याल
मानस-पटल पर तैर गए
हाँ! यही है इस ब्रह्माण्ड के साइक्लिक प्रोसेस में
मच्छरों का 'असली योगदान'
'डर'
यूं तो किसी से भी डरता नहीं है 'इंसान'
जी हाँ! भगवान से भी नहीं
किन्तु, मच्छरों से उसको डर होता है
मन प्रफुल्लित हो गया
मच्छरों के बारे में
मेरा 'शोध' सफल हो गया !!

- मिथिलेश 'अनभिज्ञ'.





मिथिलेश  के अन्य लेखों को यहाँ 'सर्च' करें... (More than 1000 Hindi Articles !!)

Disclaimer: इस पोर्टल / ब्लॉग में मिथिलेश के अपने निजी विचार हैं, जिन्हें पूरे होश-ओ-हवास में तथ्यात्मक ढंग से व्यक्त किया गया है. इसके लिए विभिन्न स्थानों पर होने वाली चर्चा, समाज से प्राप्त अनुभव, प्रिंट मीडिया, इन्टरनेट पर उपलब्ध कंटेंट, तस्वीरों की सहायता ली गयी है. यदि कहीं त्रुटि रह गयी हो, कुछ आपत्तिजनक हो, कॉपीराइट का उल्लंघन हो तो हमें लिखित रूप में सूचित करें, ताकि तथ्यों पर संशोधन हेतु पुनर्विचार किया जा सके. मिथिलेश के प्रत्येक लेख के नीचे 'कमेंट बॉक्स' में आपके द्वारा दी गयी 'प्रतिक्रिया' लेखों की क्वालिटी और बेहतर बनाएगी, ऐसा हमें विश्वास है.
इस लेख से जुड़े सर्वाधिकार इस वेबसाइट के संचालक मिथिलेश के पास सुरक्षित हैं. इस लेख के किसी भी हिस्से को लिखित पूर्वानुमति के बिना प्रकाशित नहीं किया जा सकता. इस लेख या उसके किसी हिस्से को उद्धृत किए जाने पर लेख का लिंक और वेबसाइट का पूरा सन्दर्भ (www.mithilesh2020.com) अवश्य दिया जाए, अन्यथा कड़ी कानूनी कार्रवाई की जा सकती है.

No comments

Powered by Blogger.