धर्मान्धता को तज भी दो... Hindi Poem on Religious Environment, Hindu, Muslim


तोड़ दे हर 'चाह' 
नफरत वो बीमारी है
इंसानियत से हो प्यार
यही एक 'राह' न्यारी है

बंट गया यह देश फिर
लेकिन अक़्ल ना आयी
रहना तुमको साथ फिर
क्यों 'शक़्ल' ना भायी 

'आधुनिक' हम हो रहे
या हो रहे हम 'जंगली'
रेत में उड़ जाती 'बुद्धि'
सद्भाव हो गए 'दलदली'

हद हो गयी अब बस करो
नयी पीढ़ी को तो बख़्श दो
ज़हरीलापन बेवजह क्यों
धर्मान्धता को तज भी दो

- मिथिलेश 'अनभिज्ञ'.




Hindi Poem on Religious Environment, Hindu, Muslim
मिथिलेश  के अन्य लेखों को यहाँ 'सर्च' करें... (More than 1000 Hindi Articles !!)

Disclaimer: इस पोर्टल / ब्लॉग में मिथिलेश के अपने निजी विचार हैं, जिन्हें पूरे होश-ओ-हवास में तथ्यात्मक ढंग से व्यक्त किया गया है. इसके लिए विभिन्न स्थानों पर होने वाली चर्चा, समाज से प्राप्त अनुभव, प्रिंट मीडिया, इन्टरनेट पर उपलब्ध कंटेंट, तस्वीरों की सहायता ली गयी है. यदि कहीं त्रुटि रह गयी हो, कुछ आपत्तिजनक हो, कॉपीराइट का उल्लंघन हो तो हमें लिखित रूप में सूचित करें, ताकि तथ्यों पर संशोधन हेतु पुनर्विचार किया जा सके. मिथिलेश के प्रत्येक लेख के नीचे 'कमेंट बॉक्स' में आपके द्वारा दी गयी 'प्रतिक्रिया' लेखों की क्वालिटी और बेहतर बनाएगी, ऐसा हमें विश्वास है.
इस लेख से जुड़े सर्वाधिकार इस वेबसाइट के संचालक मिथिलेश के पास सुरक्षित हैं. इस लेख के किसी भी हिस्से को लिखित पूर्वानुमति के बिना प्रकाशित नहीं किया जा सकता. इस लेख या उसके किसी हिस्से को उद्धृत किए जाने पर लेख का लिंक और वेबसाइट का पूरा सन्दर्भ (www.mithilesh2020.com) अवश्य दिया जाए, अन्यथा कड़ी कानूनी कार्रवाई की जा सकती है.

No comments

Powered by Blogger.