देश के लौह-पुरुष एवं लौह-महिला की चारित्रिक समानताएं - Iron man and Iron Lady of India, History in Hindi


31 अक्टूबर देश के दो महापुरुषों को याद करने का सुअवसर है. आज़ादी के समय जहाँ देशवासियों ने सरदार वल्ल्भभाई पटेल का लौह चरित्र देखा, वहीं आज़ाद भारत में श्रीमती इंदिरा गांधी ने भारत की सुरक्षा को लेकर हर वह कदम उठाया, जो आज के समय भी प्रासंगिक है, और आगे भी रहने वाला है. देश के भीतर तमाम नेता हुए हैं और आगे भी होते रहेंगे, लेकिन कुछ एक चरित्र पक्षपात से हटकर, राजनीति से हटकर प्रेरणा देते हैं, तो देशभक्ति का एक व्यापक मानदंड भी तय करते हैं. ऐसे महापुरुषों द्वारा स्थापित मूल्यों की अनदेखी कर पाना इतिहास के लिए भी संभव नहीं हो पाता है. सरदार पटेल ने अंग्रेजी गुलामियत से पीड़ित, शोषित, बिखरे भारत को किसी योद्धा की भांति एकजुट किया, तो इंदिरा गांधी ने दुर्गा का रूप धारण करके गरीबी, भूखमरी, अशिक्षित भारत में गौरव का भाव जगाया. लेकिन देश के वर्तमान नेताओं को इस तथ्य को समझने की फुर्सत कहाँ है? बस वह इन महान नायकों की लौह प्रतिमाएं बनाकर संतुष्ट हो जाते हैं, जबकि इनके महान चारित्रिक गुणों को तो छू भी नहीं पाते हैं. देशभक्ति और देशवासियों की रक्षा के जो मूल्य सरदार पटेल और श्रीमती इंदिरा गांधी ने स्थापित किये हैं, उसे पिछली सरकारों और वर्तमान सरकार ने कितना समझा है, यह कहना बेहद मुश्किल है. उस रास्ते पर चलने की बात शुरू ही कहाँ होती है. सरदार पटेल और श्रीमती गांधी को यह कृतज्ञ राष्ट्र सदा ही याद करेगा, इस बात में दो राय नहीं. यहाँ यह बताना भी उचित होगा कि इन दोनों नेताओं की छवि अपने आप में निर्विवाद रही थी. देशहित की खातिर इन्होने योगेश्वर श्रीकृष्ण की भांति न सिर्फ आवश्यक राजनीति की, बल्कि जरूरत पड़ने पर सुदर्शन-चक्र उठाने से भी यह नहीं चूके.

 Iron man and Iron Lady of India, History in Hindi
एक दूसरी खास बात इन दोनों महान व्यक्तित्वों के सन्दर्भ में समझ आती है कि कर्मपथ पर चलते हुए इन्हें अपनों के द्वारा सर्वाधिक विरोध का सामना करना पड़ा था. राजनीति कहें या कुछ और लेकिन आज़ादी के बाद देश की अधिकांश प्रांतीय समितियां, प्रधानमंत्री के पद के लिए सरदार पटेल के पक्ष में थीं, लेकिन उन पर जवाहरलाल नेहरू को वरीयता मिली. इसी के सामानांतर इंदिरा गांधी को भी उन्हीं की पार्टी के वरिष्ठों ने पार्टी तक से निकाल दिया, लेकिन उनके भीतर मौजूद लौहतत्व ने उन्हें इतिहास के स्वर्णिम अक्षरों तक पहुंचा दिया. कहना अतिशयोक्ति नहीं होगी कि गीता में जिस कर्मयोग की व्याख्या योगेश्वर श्रीकृष्ण ने की है, उसका अक्षरशः पालन इन दोनों लौह-व्यक्तित्वों ने किया है. हैदराबाद और जूनागढ़ की रियासतों का विलय करने में सरदार पटेल ने मोह का त्याग कर दिया और अपने प्रिय नेता नेहरू तक से नाराजगी मोल ली. वहीं इंदिरा गांधी ने भी आपरेशन ब्लू स्टार को देश के लिए जरूरी माना और उनके चारित्रिक बल को देखिये कि एक विशेष कौम के खिलाफ हो जाने के बावजूद उन्होंने अपनी निजी सुरक्षा से उस कौम के लोगों को अलग नहीं किया. 

दोनों महानायकों के काल में कुछ दशक का फर्क जरूर रहा हो, लेकिन देशभक्ति की खातिर एक्शन लेने में दोनों का जवाब नहीं! तमाम ऐतिहासिक कहानियाँ दोनों के चरित्र से जुड़ी हुईं हैं और हम सब उसे जानते भी हैं. उनको जानने में हमसे कोई गलती नहीं होती है, लेकिन समस्या तब आती है, जब हम उनके द्वारा किये गए कार्यों और दिखाए गए रास्तों को मानते नहीं हैं. आम जनमानस को तो इन महापुरुषों से सीख लेनी ही चाहिए, लेकिन विशेषरूप से राजनेताओं को राजनीति का उद्देश्य इन लौह-चरित्रों से सीखने की आवश्यकता है.

कटुता के इस दौर में सरदार पटेल का राजनैतिक जीवन बेहद व्यवहारिक हो जाता है. तमाम मतभिन्नताओं के बावजूद उन्होंने पंडित नेहरू से जिस प्रकार सामंजस्य बनाये रखा, उस चरित्र को, सरदार पटेल की विश्व में सबसे ऊँची प्रतिमा बनाने का दावा करने वाले नेतृत्व को सीखना चाहिए. लौह पुरुष की बात चल रही है तो कथित राष्ट्रवादी नेतृत्व को भाजपा के लौह-पुरुष कहे जाने वाले भीष्म की अनदेखी पर भी अपना रूख साफ़ करना चाहिए. ठीक यही स्थिति इंदिरा गांधी के समर्थकों पर भी लागू होती है. उनके समय भी कांग्रेस पार्टी धरातल में जा चुकी थी, लेकिन उन्होंने किस प्रकार उसे पुनर्जीवन दिया, यह अध्ययन का विषय है. देश में मजबूत विपक्ष का होना बहुत जरूरी है, और खासकर लोकतान्त्रिक प्रक्रिया में तो यह जनमानस का प्राण होता है. यदि देश में विपक्ष नहीं है तो इसके लिए इंदिरा गांधी के राजनैतिक उत्तराधिकारी कहलाने वाले कितने जिम्मेवार हैं, इस बात पर उन्हें मंथन करना चाहिए, और यदि इंदिरा गांधी की गरिमा को वह कायम न रख पाएं तो "खास परिवार" के वंशजों को दूसरों के लिए रास्ता छोड़ देना चाहिए. आखिर यह दोनों महापुरुष पूरे देश के गौरव हैं, लेकिन इनका गौरव हम तभी रख पाएंगे जब देश की खातिर, देशवासियों की खातिर प्रत्येक लालच, भय से मुक्त होकर, विरोधियों के साथ भी तालमेल बनाकर आगे बढ़ें. इसी में इन महान व्यक्तित्वों की श्रद्धांजलि भी होगी, और संभवतः देश का कल्याण भी.

- मिथिलेश कुमार सिंह, नई दिल्ली.




Iron man and Iron Lady of India, History in Hindi, Biography of Sardar Vallabhbhai Patel, bjp, congress, durga, ekikaran, ex prime ministers, first home minister, grih mantri, India's freedom movement, indira gandhi, iron lady, iron man, lauh purush, lk advani, loh mahila, modi, sardar, united india, vichardhar
मिथिलेश  के अन्य लेखों को यहाँ 'सर्च' करें... (More than 1000 Hindi Articles !!)

Disclaimer: इस पोर्टल / ब्लॉग में मिथिलेश के अपने निजी विचार हैं, जिन्हें पूरे होश-ओ-हवास में तथ्यात्मक ढंग से व्यक्त किया गया है. इसके लिए विभिन्न स्थानों पर होने वाली चर्चा, समाज से प्राप्त अनुभव, प्रिंट मीडिया, इन्टरनेट पर उपलब्ध कंटेंट, तस्वीरों की सहायता ली गयी है. यदि कहीं त्रुटि रह गयी हो, कुछ आपत्तिजनक हो, कॉपीराइट का उल्लंघन हो तो हमें लिखित रूप में सूचित करें, ताकि तथ्यों पर संशोधन हेतु पुनर्विचार किया जा सके. मिथिलेश के प्रत्येक लेख के नीचे 'कमेंट बॉक्स' में आपके द्वारा दी गयी 'प्रतिक्रिया' लेखों की क्वालिटी और बेहतर बनाएगी, ऐसा हमें विश्वास है.
इस लेख से जुड़े सर्वाधिकार इस वेबसाइट के संचालक मिथिलेश के पास सुरक्षित हैं. इस लेख के किसी भी हिस्से को लिखित पूर्वानुमति के बिना प्रकाशित नहीं किया जा सकता. इस लेख या उसके किसी हिस्से को उद्धृत किए जाने पर लेख का लिंक और वेबसाइट का पूरा सन्दर्भ (www.mithilesh2020.com) अवश्य दिया जाए, अन्यथा कड़ी कानूनी कार्रवाई की जा सकती है.

No comments

Powered by Blogger.