नए लेख

6/recent/ticker-posts

Ad Code

ऑनलाइन के समय में एक अच्छा न्यूज़ रिपोर्टर कैसे बनें?

क्या आप एक Reporter से अपनी News Website का मालिक बनना चाहते हैं?
न्यूज पोर्टल के लिए रिपोर्टर बनने से सम्बंधित मुद्दे और सल्यूशंस
मीडिया का पेशा बेहद सम्मानित पेशा रहा है. यह समाज सेवा का पेशा भी रहा है, यह लोगों की प्रॉब्लम सॉल्व करने का प्रोफेशन रहा है और यह इतना शक्तिशाली रहा है कि जब कोई पीड़ित प्रशासन से हार जाता है, जब कोई वंचित अदालत की लड़ाई में उलझ जाता है, हार जाता है, तब भी मीडिया उसका साथ नहीं छोड़ता, उसके हक में आवाज उठाता रहता है.

ऑनलाइन के समय में एक अच्छा न्यूज़ रिपोर्टर कैसे बनें? Becoming a Good News Reporter in Online Age


पिछले कई सालों से मेरे पास न्यूज़ पोर्टल, न्यूज़ वेबसाइट, न्यूज़ एप्लीकेशन से संबंधित अलग-अलग इंक्वायरीज आती रहती हैं.

इसमें छोटी-छोटी बातों से लेकर, लोग गंभीर सवाल तक, सभी कुछ पूछते हैं और मैं अपने अनुभव, शोध के आधार पर यथोचित जवाब देने का प्रयत्न करता हूं. 

भूमिका के तौर पर आपको एक वाकया बताता हूँ. पिछले दिनों एक बड़ी धांधली चली और यह धांधली यह थी कि न्यूज़ पोर्टल रजिस्ट्रेशन के नाम पर कुछ ठग टाइप के लोग, उन तमाम लोगों को इस बात के लिए डराते थे कि आपका न्यूज़ पोर्टल भारत सरकार से रजिस्टर्ड नहीं है, इसीलिए आप अपनी न्यूज़ वेबसाइट पर कुछ न्यूज़ नहीं लगा सकते.

👀 कौन है मिथिलेश 👉👉 मिथिलेश की प्रिंट एवं ई-बुक देखें...!!

निश्चित रूप से तथ्यात्मक आधार पर यह गलत जानकारी थी, लेकिन डराकर ठग लोग न्यूज पोर्टल के ओनर, पत्रकारों - रिपोर्टर्स से वसूली तक करते थे. 

ऐसे कई मामले मेरे सामने आए हैं, जिसमें 10,000 से लेकर 40 - 40 हजार तक लोगों से वसूले गए और उन्हें एक प्रिंट आउट पकड़ा दिया गया कि आपका न्यूज़ पोर्टल रजिस्टर्ड हो गया है, जबकि हकीकत यह है कि आप बिना एक पैसा लगे, यानी उद्योग आधार से इसे फ्री में रजिस्टर्ड करा सकते हैं और अगर नहीं भी रजिस्टर्ड कराते हैं तो भी आप न्यूज़ वेबसाइट एक बिजनेस के तौर पर चला सकते हैं.

इसको लेकर लोगों में थोड़ी बहुत जागरूकता जरूर हुई, लेकिन अभी भी ठगी का यह धंधा बदस्तूर जारी है. 

इसके साथ-साथ, पिछले कुछ महीनों से मेरे पास रिपोर्टर बनने के संदर्भ में भी इंक्वायरीज आ रही हैं. नए लोग पूछते हैं कि रिपोर्टर कैसे बना जाए, तो यह बात भी सामने आ रही है, कुछ लोग न्यूज़ वेबसाइट बनाकर, न्यूज पोर्टल बनाकर लोगों को रिपोर्टर बनाने के लिए उनसे पैसा ले रहे हैं. इसकी फीस कई बार 10,000 या उससे अधिक मांगी जा रही है, कई लोग कुछ कम डिमांड भी कर रहे हैं.

लोग मुझसे पूछते हैं कि क्या यह पैसा देना चाहिए कि नहीं देनी चाहिए, तो मैं यहां बड़े साफ़ तौर से बताना चाहूंगा कि सिर्फ किसी पोर्टल का आईडी कार्ड लेने के लिए आपको यह फीस देने की जरूरत नहीं है.




हालांकि तमाम अखबार, तमाम बड़े ब्रांड ब्यूरो के नाम पर अपनी एक सिक्योरिटी मनी लेते हैं, कुछ सामने से तो कुछ टेबल के नीचे से, लेकिन बिना किसी ब्रांड के भी कई लोग वसूली में लिप्त हैं और उनके झांसे में आ रहे हैं नए लोग, जो रिपोर्टर बनकर मीडिया से जुड़ना चाहते हैं.

अपने 12 साल के समग्र अनुभव के आधार पर आपको सुझाव देना चाहूँगा कि न्यूज़ पोर्टल का रिपोर्टर बनने के लिए आप किसी भी झांसे में ना आयें, बल्कि वर्तमान में तो जो कंटेंट आप लिखते हैं, जो न्यूज़ आप देते हैं, अगर उसमें जान है, वह यूनिक है तो उल्टे न्यूज़ पोर्टल वालों को आपको पैसे देने चाहिए

बाकी तमाम जांच-पड़ताल के बाद आप देख सकते हैं कि किसी के साथ जुड़ने से आपको वास्तव में क्या लाभ होने वाला है या आपकी आय पर और आपकी कार्य-क्षमता पर क्या फर्क पड़ेगा?

तो अगर आप इस फील्ड में नए हैं और रिपोर्टर बनना चाहते हैं तो इन बातों का अवश्य ही ध्यान रखें.

कई ऐसे रिपोर्टर भी मुझसे प्रश्न पूछते हैं किसी के साथ जुड़कर काम करने की बजाय क्या वह अपना न्यूज पोर्टल या न्यूज ऐप शुरू कर सकते हैं, तो यहां मैं स्पष्ट करना चाहूंगा कि बिल्कुल वह अपना न्यूज़ पोर्टल या न्यूज ऐप स्टार्ट कर सकते हैं और धीरे-धीरे अगर उसमें वह कार्य करते रहें तो निसंदेह एक ऊंचाई तक वह पहुंच सकते हैं.


👽 किसी भी विषय पर मिथिलेश से मुफ्त सलाह लें, एक बार... कई बार 😇

यहां एक रिपोर्टर बनने के लिए, एक संवाददाता बनने के लिए या मीडिया इंडस्ट्री के किसी भी क्षेत्र में साख जमाने के लिए आपको लंबा सोचना चाहिए. आप बेशक रिपोर्टर बनना चाहते हैं या अपना न्यूज़ पोर्टल स्टार्ट करना चाहते हैं या फिर अपना न्यूज एप्लीकेशन बनवाना चाहते हैं, लेकिन अगर आप छोटी दूरी की सोचते हैं तो आप कुछ पैसों के लिए अपनी साख गंवा देंगे.

कई लोग हैं, जो छोटे-छोटे पैसे के लिए वसूली तक करते हैं और ऐसे में मार्केट में उनकी स्थिति खराब हो जाती है.

तो अपना एक सिद्धांत जरूर रखें. कमाई की बात करें तो इसके अनेक रास्ते हैं, जैसे विज्ञापन के माध्यम से आप पैसे कमा सकते हैं, दूसरे बिजनेस ऑप्शन ढूंढ सकते हैं, लेकिन ब्लैक मेलिंग या गलत खबरों के प्रसार से, फेक न्यूज से आपको निश्चित रूप से बचना चाहिए. 

बाकी रिपोर्टर के संदर्भ में और भी कोई क्वेरी होती है, तो मुझे व्हाट्सएप करें या मुझे फोन करें: 9990089080

News Portal से सम्बंधित अन्य लेख, जिसे आपको अवश्य पढना चाहिए:


Web Title: Issues and solutions related to becoming a reporter for a news portal
Keywords: Fraud in being reporter, Fees for Reporters, Starting a News Portal as a reporter

Post a Comment

2 Comments

  1. My brother suggested I would possibly like this blog. He was once entirely right. This submit actually made my day. You can’t believe just how so much time I had spent for this information! Thank you! KIU

    ReplyDelete
Emoji
(y)
:)
:(
hihi
:-)
:D
=D
:-d
;(
;-(
@-)
:P
:o
:>)
(o)
:p
(p)
:-s
(m)
8-)
:-t
:-b
b-(
:-#
=p~
x-)
(k)