देश की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स वेबसाइट की सुरक्षा पर उठते सवाल! Security threats and IRCTC Website, Hindi Article

*लेख के लिए नीचे स्क्रॉल करें...


भारत में रेलवे यहाँ के लोगों की लाइफलाइन है और जैसे-जैसे ज़माना एडवांस होता गया है, उसी रफ़्तार से लोग इसके टिकट्स की बुकिंग ऑनलाइन करने लगे हैं. आईआरसीटीसी (IRCTC) की वेबसाइट पर रोज लाखों लोग अपना टिकट बुक करते हैं और ऐसे में जब इसकी सुरक्षा के बारे में ख़बरें पढ़ने को मिलती हैं, तब मन संशय में आ जाता है. हालाँकि, इसके साथ एक बात यह भी सच है कि इसके बारे में अधिकारी भी सचेत रहे हैं, अन्यथा अब तक हमारी व्यवस्था स्मूद ढंग से नहीं चलती. पिछले दिनों यह खबर आयी थी कि इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन (IRCTC) की ई-टिकटिंग वेबसाइट को महज 12वीं क्लास का छात्र हैक कर सकता है, तो किसी पेशेवर हैकर द्वारा यह कार्य करने की कल्पना ही रोंगटे खड़े कर देती है. हाल ही में खबर आयी थी कि कप्तानगंज का रहने वाला हामिद अभी 12वीं का छात्र है, लेकिन उसने आईआरसीटीसी (IRCTC) की वेबसाइट को हैक करके 50 लाख रूपये कमाए. हालाँकि, आईआरसीटीसी की वेबसाइट ‘हैक’ कर रेलवे आरक्षण टिकट निकालने वाले जालसाज को केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने पकड़ने में सफलता जरूर पाई है, किन्तु प्रश्न सिर्फ एक या दो की गिरफ्तारी का नहीं है, क्योंकि अगर ऐसा एक जगह हो सकता है तो फिर दूसरी जगह होना भी लाजमी है. सबसे बड़ी बात ये है कि इस लड़के को आईआरसीटीसी (IRCTC) की वेबसाइट को हैक करने में सिर्फ और सिर्फ 30 सेकंड लगते थे. इससे सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि देश की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स वेबसाइट की सुरक्षा व्यवस्था कितनी मजबूत है! जहां प्रतिदिन करोड़ों रूपये का लेन-देन होता है, यदि उसकी सुरक्षा का यह हाल है जिसको कोई भी तोड़ सकता है, तो फिर भगवान ही मालिक है 'आरक्षण' की खातिर रोज धक्के खाते भारतीय यात्रियों का! 

इसे भी पढ़िए: दिल्ली मेट्रो की सुरक्षा में सेंध है खतरनाक


आये दिन रेलवे मंत्री जहां प्रतिदिन कोई ना कोई बदलाव और सुधार करते जा रहे हैं, ट्विटर से लोगों की कठिनाइयों को सुलझा रहे हैं, वहीं उनको ऑनलाइन रिजर्वेशन सिस्टम की सुरक्षा की मजबूती की ओर भी थोड़ा ध्यान देना चाहिए, क्योंकि यहाँ जो भी परेशानी होगी उससे सीधे तौर पर आम जनता ही दुखी होगी! पहले भी इस तरह की ख़बरें आती रही हैं, जो निश्चित तौर पर सभी के लिए चिंताजनक है. बताते चलें कि रेलवे के इस तरह की वेबसाइट हैकिंग में लोगों का व्यक्तिगत डेटा चुराया जा सकता है, जैसेकि पैन कार्ड का नंबर, आधार कार्ड की डिटेल्स,  मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी इत्यादि. रेलवे की वेबसाइट से चोरी हुए डेटा का इस्तेमाल कर फर्जी दस्तावेज भी बनाया जा सकता है, जो कहीं ज्यादा घातक साबित हो सकता है. ऐसे में किसी के दस्तावेज का इस्तेमाल कहाँ और किन गलत उद्देश्यों के लिए हो रहा है अथवा होगा, इस बात का पता लगाना भी मुश्किल है. हालाँकि, आईआरसीटीसी हैकिंग के आरोपों पर सफाई देते हुए कहती है कि मामले को बेवजह तूल दिया गया है. आईआरसीटीसी के अनुसार जो चुराया गया है उसके लिए हैकिंग की कोई जरूरत ही नहीं है, सिर्फ पीएनआर(PNR) से इन सारी जानकारियों का पता लगाया जा सकता है. पर सवाल उठता है कि पीएनआर स्टेटस चेक करने पर यात्री के नाम, सीट नंबर के साथ बोगी नंबर ही शो होता है, उसमें कहीं भी किसी पहचान-पत्र का कोई जिक्र ही नहीं होता है ना ही ईमेल आईडी दिखती है. ऐसे में यह बात साबित होती है कि पीएनआर की सहायता से यात्रियों की व्यक्तिगत जानकारी नहीं निकाली जा सकती है. 

इसे भी पढ़िए:  कंप्यूटर की दुनिया में 'सुरक्षा जरूरी'


अगर उपरोक्त दलील के अनुसार मान भी लें कि सिर्फ पीएनआर न. से यात्रियों के पर्सनल डेटा को एक्सेस किया जा सकता है तो यह और भी गम्भीर बात है, क्योंकि इस वेबसाइट पर हर दिन करोड़ों लोग पीएनआर स्टेटस चेक करते ही हैं. हालाँकि, हैकिंग से सिर्फ आईआरसीटीसी (IRCTC) ही परेशान नहीं है, बल्कि दिसंबर 2014 में पाकिस्तानी हैकर्स ग्रुप ने भारत सरकार की कई वेबसाइट को हैक किया था जो कथित तौर पर पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई(ISI) के लिए काम करती है. इसी क्रम में, जुलाई 2015 में इसरो की व्यावसायिक अंग एंट्रिक्स की वेबसाइट चीनी हैकर्स द्वारा हैक की गई थी. हालाँकि, अगस्त 2015 में ही सरकार सभी संवेदनशील मंत्रालयों को सतर्कता बरतने का निर्देश दे चुकी थी, जिसके अनुसार गृह मंत्रालय की ओर से रक्षा, विदेश, नागर विमानन, वित्त, बिजली और दूरसंचार मंत्रालयों को ये एडवाइजरी भेजी गई कि महत्वपूर्ण सूचनाओं वाले सभी कंप्यूटर 'इंट्रानेट' (आंतरिक संचार साफ्टवेयर) पर रखे जाएं, क्योंकि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसियां उनकी वेबसाइट हैक कर महत्वपूर्ण और गोपनीय सूचनाओं तक पहुंच सकती हैं. जाहिर है इन मामलों में अगर सावधानी नहीं बरती गयी तो परिणाम कहीं ज्यादा नुकसानदायक हो सकते हैं. 
- मिथिलेश कुमार सिंह, नई दिल्ली.

यदि आपको मेरा लेख पसंद आया तो...

f - फेसबुक पर 'लाइक' करें !!
t - ट्विटर पर 'फॉलो'' करें !!

आईआरसीटीसी, वेबसाइट, डेटा चोरी, Irctc, Info Stolen, Website Hacking, IRCTC Website Hacked, Data Of 1 Crore Users Leaked, Indian Railway, Irctc, IRCTC Website, Rail , रेल रिजर्वेशन, सीबीआई, वेबसाइट हैक, Rail Reservation, CBI, website hack, AL Aaeda, Hack , Message, पाकिस्तान, खुफिया एजेंसी, गृह मंत्रालय, हैंकिंग, लश्कर-ए-तैयबा, पाक खुफिया एजेंसी, Pakistan intelligence, Pakistan hackers, पाकिस्तानी हैकर्स, Ministry of External Affairs, Pakistani intelligence, Lashkar-e-Taiba, इसरो, एंट्रिक्स, एंट्रिक्स वेबसाइट, इसरो की वेबसाइट, हैकर्स, Antrix, Antrix website, Antris website hacked, ISRO, Breaking news hindi articles, Latest News articles in Hindi, News articles on Indian Politics, Free social articles for magazines and Newspapers, Current affair hindi article, Narendra Modi par Hindi Lekh, Foreign Policy recent article, Hire a Hindi Writer, Unique content writer in Hindi, Delhi based Hindi Lekhak Patrakar, How to writer a Hindi Article, top article website, best hindi article blog, Indian blogging, Hindi Blog, Hindi website content, technical hindi content writer, Hindi author, Hindi Blogger, Top Blog in India, Hindi news portal articles, publish hindi article free,
Security threats and IRCTC Website, Hindi Article

No comments

Powered by Blogger.