हथियारों की होड़ बढ़ाने में जुटा चीन! China J 20, Fighter Plane, Weapon Market, Hindi Article, New, North Korea, Pakistan Friend, Peace, War, South China Sea



चीन की विस्तारवादी नीति ने पहले ही वैश्विक समुदाय की नाक में दम किया हुआ है और अब तो चीन एयर शो के माध्यम से दुनिया को अपनी ताकत दिखाने में जुटा हुआ है. दक्षिणी चीन सागर पर अंतराष्ट्रीय न्यायालय के फैसले को लात मार चुका चीन पिछले दिनों आयोजित एयर शो में पहली बार स्टील्थ लडाकू विमान चेंगदू जे-20 को पेश कर चुका है, जिसे हथियारों की होड़ बढ़ाने के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है. दुनिया के बाजार में सस्ता और कई बार घटिया सामान देने के लिए कुख्यात हो चुका चीन अब दुनिया में प्रमुख हथियार निर्माता बनने की महत्वकांक्षा को जी-जान से बढ़ावा दे रहा है. गौरतलब है कि अपने एयर शो प्रदर्शनी में जी-20 ने 1 मिनट की फ्लाईपास्ट की. हालांकि चीन ने इन विमानों की ज्यादा तकनीकी जानकारी नहीं दी है, लेकिन जो सूचनाएं नेट पर हैं उसके अनुसार यह विमान लंबी यात्रा के लिए अनुकूल है, तो संभवतः राडार से बच निकलने में भी सक्षम है. जो जानकारियां सामने आई है, उसके अनुसार यह विमान 21 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ान भर सकता है, तो इसकी लंबाई 20 मीटर और ऊंचाई साढे 4 मीटर तक है. सबसे खास बात यह है कि अभिमान 36000 किलोग्राम से ज्यादा वजन लेकर उड़ान भर सकता है, तो इसमें एक बार में 25000 पौंड इंधन भरा जा सकता है. साफ तौर पर इससे बड़ी दूरी की आकाश से आकाश में मार करने वाली मिसाइलें छोड़ी जा सकती हैं. अगर देखा जाए तो चीन के इस हथियार-प्रदर्शन से दक्षिण एशिया और उससे बाहर हथियारों का संतुलन प्रभावित होने का भय और ज्यादा बढ़ गया है. पहले ही भारत और पाकिस्तान हथियार खरीदने में दुनियाभर में कुख्यात रहे हैं और अब चीन द्वारा इस मामले में अपनी टांग अड़ाने से मामला और गंभीर होता जा रहा है. कहां तो यह जा रहा है कि कमर्शियल एयरक्राफ्ट कारपोरेशन ऑफ चाइना ने अगले 20 वर्षों में विमानों की मांग 40 हजार तक पहुंचने का अनुमान लगाया है और इसीलिए चीन इस मामले में अमेरिका के प्रयासों का जवाब देने के लिए उत्सुक रहा है. इस सम्बन्ध में, सबसे गंभीर बात यह है कि चीन इस विमान को पाकिस्तान जैसे अस्थिर राष्ट्र को बेच सकता है, जिसके लिए संभवतया बातचीत भी चल रही है. China J 20, Fighter Plane, Weapon Market, Hindi Article, New, North Korea, Pakistan Friend, Peace, War, South China Sea


China J 20, Fighter Plane, Weapon Market, Hindi Article, New, North Korea, Pakistan Friend, Peace, War, South China Sea
जाहिर तौर पर, भारत को भी इसका जवाब देने के लिए रक्षा-खरीद की नीति पर अलग ढंग से सोचने पर मजबूर होना पड़ेगा और स्पष्टतः हथियारों की खरीद-फरोख्त बढ़ेगी ही! गौरतलब है कि चीन का एफसी थर्टी वन, जो जी-20 का ही निर्यात किया जानेवाला संस्करण है, उसपर पाकिस्तान के साथ सौदेबाजी की बातें की जा रही हैं. इससे भी बड़ी बात यह है कि जो सूचनाएं सामने आ रही हैं, उसके अंदर नेटवर्क को भारत चीन सीमा पर तैनात करने की बात भी कही जा रही है. हालाँकि, कई चीनी एक्सपर्ट ही इस बात को एक तरह से खारिज कर चुके हैं क्योंकि जी-20 के मेंटेनेंस और ऑपरेशन से जुड़ी सुविधाएं विकसित करने में चीन को अभी समय लगने वाला है. बावजूद इसके चीन द्वारा इस तरह से हथियारों के प्रदर्शन का भारत पर अवश्य ही दबाव पड़ेगा. देखा जाए तो फाइटर प्लेन के निर्माण में वेस्टर्न कंट्रीज पर डिपेंडेंसी खत्म करने के लिए चीन ने डिफेंस सेक्टर की रिसर्च में भरपूर कोशिश और इन्वेस्टमेंट की है. लेकिन आम लोगों के लिए अब तक ऐसे खतरनाक विमानों की उड़ान नहीं दिखाई गई थी, पर चीन ने इस बार जिस तरह खतरनाक हार्डवेयर का प्रदर्शन किया है, उससे हथियारों की होड़ बढ़ने वाली ही है. सोशल मीडिया पर यह भी आरोप लगाए गए हैं कि चीन ने अमेरिका के विमानों की डिजाइन चोरी की है, पर यह मामला अपनी जगह है और हथियारों के मामले में चीन की महत्वाकांक्षा बिल्कुल अलग! दूसरे देश जहां हथियार बेचने और उसका प्रसार करने में संतुलित नीति अपनाते हैं, वही चीन पाकिस्तान और उत्तर कोरिया जैसे देशों को हथियार और परमाणु सामग्री बेचने में जरा भी हिचकिचाता नहीं है. इसलिए वैश्विक समुदाय के माथे पर चिंता की लकीरें आना स्वाभाविक सी बात है. कहा तो यह भी जा रहा है कि दक्षिण पूर्वी चीन सागर में लगातार बढ़ते प्रेशर को देखते हुए स्टील्थ विमान विकसित कर चीन, अमेरिका के साथ प्रतिस्पर्धा कर रक्षा-क्षेत्र में खुद को एक बड़ा खिलाड़ी दर्शाना चाहता है, पर उसकी यह महत्वकांक्षा उतनी ही खतरनाक है जितनी उत्तर कोरिया द्वारा परमाणु हथियारों का परीक्षण! देखना दिलचस्प होगा कि अब वैश्विक समुदाय दक्षिणी चीन सागर जैसे विवादित मुद्दों पर क्या रुख अख्तियार करता है, क्योंकि वैश्विक संतुलन को लात मारना और विश्व-शांति को ठेंगा दिखाना चीन की जैसी नियति बन चुकी है.

- मिथिलेश कुमार सिंह, नई दिल्ली.




ऑनलाइन खरीददारी से पहले किसी भी सामान की 'तुलना' जरूर करें 
(Type & Search any product) ...


China J 20, Fighter Plane, Weapon Market, Hindi Article, New, North Korea, Pakistan Friend, Peace, War, South China Sea
मिथिलेश  के अन्य लेखों को यहाँ 'सर्च' करें...
(
More than 1000 Hindi Articles !!)


loading...

No comments

Powered by Blogger.