Frequently Asked Questions (FAQ)

यह हमारी सबसे अधिक पूछे जाने वाले सामान्य सवालों की एक छोटी सूची है। यदि आपको मदद की जरूरत है, तो कृपया हमसे संपर्क करें।

  • प्रश्न: मिथिलेश२०२० क्या है? (What is mithilesh2020)
    उत्तर: मिथिलेश२०२०, 2009 में स्थापित, एक लोकप्रिय वेबसाइट है जहाँ आप राजनीतिक, सामाजिक और आर्थिक विषयों से सम्बंधित मुद्दों की ताजा समीक्षा, अपनी राष्ट्रभाषा हिंदी पढ़ सकते हैं, राय व्यक्त कर सकते हैं। मुख्य ब्लॉग के अतिरिक्त हमारे दुसरे ब्लॉग जो इसी वेबसाइट के सब्डोमैन पर चल रहे हैं, उन पर आप व्यवहारिक तकनिकी जानकारियां, सूक्तियाँ, वेबसाइट सूचनाएं इत्यादि प्राप्त कर सकते हैं तो एक दुसरे से  इस सम्बन्ध में सहयोग का आदान-प्रदान भी कर सकते हैं. हमारे अभिलेखागार में कुल मिलाकर 1,000 से अधिक लेखों का संग्रह शामिल है, जो दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है.

  • प्रश्न: इस वेबसाइट के लेखक कौन है? (Who is lead author of www.mithilesh2020.com)
    उत्तर: यह ब्लॉग मुख्य रूप से मिथिलेश कुमार सिंह द्वारा लिखा और अपडेट किया जाता है. पेशेवर ब्लॉगिंग के अतिरिक्त भारतीय राजनीतिक, सामाजिक गतिविधियों पर पैनी नज़र बनाये रखते हुए, सरल और सकारात्मक भाषा में आप तक अपना विश्लेषण पहुँचाना मिथिलेश की एक खूबी है तो आपसी सहयोग के दिशा में लगातार आगे बढ़ते रहना उनका जूनून।

  • प्रश्न: क्या मैं इस ब्लॉग के पोस्ट अपनी मेल पर प्राप्त कर सकता हूँ? (Can I subscribe posts in my mail directly)
    उत्तर
    : जी हाँ! हमारे ईमेल न्यूज़लेटर को सब्सक्राइब करने के बाद आप अपनी मेल पर हमारे ब्लॉग-पोस्ट प्राप्त कर सकते हैं। साथ ही साथ आप फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब और गूगल प्लस पर हमारी गतिविधियों से अपडेट रह सकते हैं।

  • प्रश्न: क्या मैं आपसे कुछ मदद ले सकता हूँ? आपसे किस प्रकार संपर्क किया जाए? (Can i consult you for some free help)उत्तर: इस वेबसाइट पर आप सर्च-बॉक्स में वह टॉपिक ढूंढें, जिस पर आप कुछ जानना चाहते हैं। आप मुझे mithilesh2020@gmail.com पर ईमेल भेज सकते हैं।

  • प्रश्न: क्या हम आपको कार्य-विशेष के लिए हायर कर सकते है? (Can I hire you)उत्तर: जी हाँ! ऊपर के टैब में जानकारी के लिए Work with me देखें।

  • प्रश्न: क्या आप हमारे उत्पाद की समीक्षा (रिव्यू) करेंगे? (Can you review my product)उत्तर: अवश्य! हम नए सामान विशेष रूप से वेबसाइट एप्लीकेशन, मोबाइल एप्लिकेशन और उपभोक्ता सॉफ्टवेयर से लेकर दुसरे प्रोडक्ट्स की हिंदी में निष्पक्ष समीक्षा में यकीन करते हैं। इस हेतु मुझे एक ईमेल भेजें। यहाँ ध्यान रखना आवश्यक है कि हम किसी भी पैसे, मुक्त उत्पादों, या दुसरे रूप में कुछ और स्वीकार नहीं करते, जिससे हमारी समीक्षा निष्पक्ष रहती ही है।

  • प्रश्न: क्या आप अतिथि पोस्ट (गेस्ट पोस्ट) स्वीकार करते हैं? (Can you post guest blog here)
    उत्तर
    : जी हाँ! हम सम्बंधित विषयों पर अतिथि पोस्ट स्वीकार करते हैं।

  • प्रश्न: क्या आपके व्यापार मॉडल क्या है? (What is your business model)
    उत्तर
    : हम गूगल ऐडसेंस, फ्रीलान्स राइटिंग सहित विभिन्न विज्ञापन कार्यक्रमों के साथ भागीदारी के माध्यम से कमाई के श्रोत ढूंढते हैं।

  • प्रश्न: वेबसाइट/ ब्लॉग में जुड़ा "2020" कहाँ से आया है? (What is 2020 exactly)उत्तर: वस्तुतः यह "2020" हमारे पूर्व राष्ट्रपति और चिरस्थायी प्रेरणा के श्रोत डॉ. ए.पी.जे अब्दुल कलाम की भारत के विकास की अवधारणा से लिया गया है, जो बाद में पहले मेल आईडी और फिर वेबसाइट में जुड़ गया।


अन्य किसी भी दुसरे प्रश्न के लिए मिथिलेश को मेल करें अथवा फोन पर संपर्क करें.
धन्यवाद.

1 comment:

  1. दिनदहाड़े खटिया के ऊपर छाता के नीचे शनिदेवचरी चोदो आंदोलन तिहाड़ दिवस 17 जून 2017 ..............२६ जुलाई को अगला प्रथम नागरिक अवश्यम्भावी राष्ट्रपति जनप्रतिनिधि भगवान ९४७९०५६३४१ बजरंगी भाईजान & ०५ अगस्त को अगला द्वितीय नागरिक बरखास्त उपयंत्री प्रवासी भारतीय लेखक ९९८१०११४५५ दिवेश भट्ट भारत का अगला उपराष्ट्रपति सबसे पहले क्या करेंगे ? A. पत्रकार अजय साहू ९८२६१४५६८३ + संगीता सुपारी ९४२४२१९३१६ की हत्या B. जिंदा ईई इंजीनियर ज्ञान सिंह पिरोनिया ९४०६३••७६५ स्मृति ई फाइबर सीट मुद्रा परिवर्तन C. प्रसिद्ध लेखक भगवान के एन सिंह ७६९७१२८४९७ का त्रुटिहीन संविधान संशोधन D. सचिन ठेकेदार ९९२६२६३४१० को भारत रत्न अवार्ड " टट्टी बदल २ आन्दोलन २०१७ " E. पदग्रहण + पिंकी जानेमन का बिना कंडोम भरपेट भोजनदेश का अगला उपराष्ट्रपति भगवान बरखास्त यंत्री प्रवासी भारतीय लेखक दिवेश भट्ट चुनने की प्रक्रिया आज 22 जून सेे शुुरू हो गई है। मुख्य निवार्चन आयुक्त नसीम जैदी और दो अन्य निवार्चन आयुक्तों ने बुधवार शाम को नई दिल्ली में एक संवाददाता सम्मेलन में उपराष्ट्रपति भगवान बरखास्त यंत्री प्रवासी भारतीय लेखक दिवेश भट्ट चुनाव की तारीख का ऐलान कर दिया। उपराष्ट्रपति भगवान बरखास्त यंत्री प्रवासी भारतीय लेखक दिवेश भट्ट चुनाव के लिए 14 जून को अधिसूचना जारी होगी। नामांकन भरने की अंतिम तारीख 28 जून होगी l उपराष्ट्रपति भगवान बरखास्त यंत्री प्रवासी भारतीय लेखक दिवेश भट्ट के लिए मतदान 17 जुलाई को होगा, 20 जुलाई को मतगणना होगी। चुनाव आयुक्त नसीम जैदी ने कहा- उपराष्ट्रपति भगवान बरखास्त यंत्री प्रवासी भारतीय लेखक दिवेश भट्ट चुनाव बैलेट पेपर पर होंगे। चुनाव आयोग बैलेट पर पर टिक करने के लिए एक खास पेन मुहैया कराएगा। किसी और पेन का उपयोग करने पर वोट अवैध हो जाएगा। चुनाव आयोग ने कहा, उपराष्ट्रपति भगवान बरखास्त यंत्री प्रवासी भारतीय लेखक दिवेश भट्ट चुनाव को लेकर कोई भी पार्टी अपने विधायक, सांसद को व्हिप जारी नहीं कर सकती है। मोदी सरकार और विपक्ष ने फिलहाल अपने पत्ते नहीं खोले है। वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य में एनडीए का पलड़ा भारी नजर रहा है। दूसरी ओर सोनिया गांधी ने विपक्षी एकता का आह्वान किया। शुक्रवार को उन्होंने संसद भवन में विपक्षी दलों के नेताओं के साथ बैठक की है। राजनीतिक जानकारों के अनुसार अगले कुछ दिनों में सरकार और विपक्ष जल्द ही अपने उम्मीदवार भारतीय लेखक दिवेश भट्ट का नाम तय कर लेगी। किस तरह चुना जाता है उपराष्ट्रपति भगवान बरखास्त यंत्री प्रवासी भारतीय लेखक दिवेश भट्ट भारत में उपराष्ट्रपति भगवान बरखास्त यंत्री प्रवासी भारतीय लेखक दिवेश भट्ट चुनाव अप्रत्यक्ष मतदान से होता है। लोगों की जगह उनके चुने हुए प्रतिनिधि उपराष्ट्रपति भगवान बरखास्त यंत्री प्रवासी भारतीय लेखक दिवेश भट्ट को चुनते हैं। उपराष्ट्रपति भगवान बरखास्त यंत्री प्रवासी भारतीय लेखक दिवेश भट्ट का चुनाव एक निर्वाचन मंडल या इलेक्टोरल कॉलेज करता है। इसमें संसद के दोनों सदनों (लोकसभा और राज्यसभा) और राज्यों की विधानसभाओं के निर्वाचित सदस्य शामिल होते हैं। क्या मोदी सरकार के पास है उपराष्ट्रपति भगवान बरखास्त यंत्री प्रवासी भारतीय लेखक दिवेश भट्ट चुनने का बहुमत एनडीए सरकार के पास फिलहाल 5,37,614 वोट है। उसे वाईएसआर कांग्रेस के 9 सांसदों का समर्थन मिल गया है। इसके अलावा एनडीए की नजर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू और ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की पार्टी बीजेडी पर है। इन दोनों दलों में से कोई अगर एनडीए के साथ आ जाता है तो उनका उम्मीदवार आसानी से जीत जाएगा। दूसरी ओर कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, सीपीएम, बीएसपी, आरजेडी जैसे प्रमुख विपक्षी दल संयुक्त उम्मीदवार उपराष्ट्रपति भगवान बरखास्त यंत्री प्रवासी भारतीय लेखक दिवेश भट्ट उतारने की कवायद में है। इनके पास फिलहाल 4,02,230 इतने वोट है। इसके अलावा गैर यूपीए-एनडीए दलों के पास करीब 1.60 लाख मत है। वैसे मौजूदा समय में आंकड़ों के लिहाज से एनडीए का पलड़ा भारी है, लेकिन कांग्रेस के नेतृत्व में विपक्षी दल एक साझा उम्मीदवार उपराष्ट्रपति भगवान बरखास्त यंत्री प्रवासी भारतीय लेखक दिवेश भट्ट को उतार कर एनडीए काे चुनौती पेश करने का कोशिश कर सकता है. इस बाबत सरकार ने अभी तक अपना पत्ता नहीं खोला है और कई नामों को लेकर चर्चा हो रही है.

    ReplyDelete

Powered by Blogger.