वृहस्पति पर 'नासा': वैज्ञानिकों की असीम उड़ान - Jupiter Mission NASA, Hindi Article, Space Science, Mithilesh



अंतरिक्ष सदा से ही वैज्ञानिकों की उत्सुकता का केंद्र रहा है और अमेरिकी एजेंसी नासा का इतिहास ही पूरे विश्व के वैज्ञानिकों के लिए प्रेरणाश्रोत रही है. संयुक्त राज्य अमेरिका की हम कई मामलों में बुराई कर सकते हैं, मसलन वह दुनिया पर दादागिरी करता है, हथियारों के व्यापार को बढ़ावा देता है बला बला, किन्तु इसके साथ यह बात भी उतनी ही सच है कि अमेरिकी वैज्ञानिकों ने मानव-सभ्यता के विकास में अपना महत्वपूर्ण योगदान भी उतनी ही शिद्दत से दिया है. इस बार उनकी उपलब्धि तो बेहद खास है, जो हमें ब्रह्माण्ड के रहस्यों के और भी नजदीक ले जा सकता है. लगभग पांच साल की अथक मेहनत और 1.1 अरब डॉलर की भारी-भरकम राशि खर्च करने के बाद नासा के वैज्ञानिक इस बात से बेहद खुश हैं कि अब वह जुपिटर यानि वृहस्पति पर दस्तक देने में सफल हो गए हैं. नैशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (National Aeronautics and Space Administration) यानि 'नासा' (NASA) का गठन 1958  में किया गया था. आज तक अमेरिकी अंतरिक्ष अन्वेषण के सारे कार्यक्रम नासा द्वारा संचालित किए गए हैं, जिसमें अपोलो चन्द्रमा अभियान, स्कायलैब अंतरिक्ष स्टेशन और बाद में अंतरिक्ष शटल जैसे महत्वपूर्ण कार्यक्रम शामिल हैं. न केवल अमेरिका को ही इस एजेंसी से लाभ हुआ है, बल्कि यह सम्पूर्ण विश्व के लिए कई मायनों में लाभकारी रही है तो अन्य देशों के लिए एक प्रेरणाश्रोत भी. जहाँ तक नासा के 'मिशन-जुपिटर' की बात है तो अब मानवरहित अंतरिक्षयान जूनो (Jupiter Mission NASA) ने बृहस्पति की कक्षा में घूमना शुरू कर दिया है. 
Jupiter Mission NASA, Hindi Article, Space Science
सौरमंडल के सबसे बड़े ग्रह की उत्पत्ति का रहस्य सुलझाने के लिए शुरू किए गए इस मिशन की इससे बड़ी उपलब्धि भला और क्या होगी? इस यान ने रात 11 बजकर 53 मिनट पर (अंतरराष्ट्रीय समयानुसार सुबह तीन बजकर 53 मिनट पर) बृहस्पति की कक्षा में प्रवेश किया. ज्ञातव्य हो कि पांच साल पहले फ्लोरिडा के केप केनवेराल से प्रक्षेपित इस यान ने यहां पहुंचने से पहले 2.7 अरब किलोमीटर का सफर तय किया है. इस बात में कोई संदेह नहीं है कि 'टीम नासा' का यह अब तक का सबसे कठिन अभियान रहा है. मेरे एक मित्र ने ज़िक्र किया कि 'वृहस्पति (Jupiter Mission NASA) पर पहुँचने से क्या लाभ'? तो उन जैसे मित्रों को यही कहना चाहूंगा कि वैज्ञानिक शोध करते रहते हैं, नयी खोजें, नए रास्ते निकालते रहते हैं. हाँ, उससे हानि होगा कि लाभ, यह बाकी लोगों पर भी निर्भर करता है. यदि किसी भी रिसर्च या शोध का मकसद मानव-जाति को लाभ पहुंचाने के लिए किया जाए तो उससे लाभ होगा, अन्यथा इसके विपरीत भी कई उदाहरण भरे पड़े हैं. आज के समय में तो अंतरिक्ष भी युद्ध का मैदान बन चुका है. जाहिर है, अंतरिक्ष में प्रतियोगिता की लहार और भी तेज दौड़ेगी. हालाँकि, हमारे देश भारत ने अंतरिक्ष-प्रयोगों को हमेशा ही मानवता की भलाई के लिए प्रयोग में लाया है. अभी हाल ही में भारतीय एजेंसी 'इसरो' ने भी 20 सैटेलाइटों को एक साथ अंतरिक्ष में प्रक्षेपित किया था, जिसका मूल मकसद लोगों की मदद करना ही है. जाहिर तौर पर 'नासा' अभी विश्व भर में अग्रणी अंतरिक्ष एजेंसी है, जो नित-नए प्रयोगों द्वारा लोगों को अचंभित तो करती ही है, दूसरी अंतरिक्ष एजेंसियों को आगे बढ़ने की चुनौती भी पेश करती है. इसी कड़ी में जुपिटर पर पहुँचने की महत्वपूर्ण उपलब्धि के लिए नासा-वैज्ञानिकों को जितनी भी बधाई दी जाए, कम है.

- मिथिलेश कुमार सिंहनई दिल्ली.



यदि लेख पसंद आया तो 'Follow & Like' please...





ऑनलाइन खरीददारी से पहले किसी भी सामान की 'तुलना' जरूर करें 
(Type & Search any product) ...


Jupiter Mission NASA, Hindi Article, Space Science, Mithilesh,
Breaking news hindi articles, latest news articles in hindi, Indian Politics, articles for magazines and Newspapers, Hindi Lekh, Hire a Hindi Writer, content writer in Hindi, Hindi Lekhak Patrakar, How to write a Hindi Article, top article website, best hindi articles blog, Indian Hindi blogger, Hindi website, technical hindi writer, Hindi author, Top Blog in India, Hindi news portal articles, publish hindi article free

मिथिलेश  के अन्य लेखों को यहाँ 'सर्च' करें...
(
More than 1000 Hindi Articles !!)

No comments

Powered by Blogger.