विराट तो फिर विराट ही हैं, आज भी, कल भी और ... !! Virat Kohli, Hindi Article, New, Indian Player, Cricket Analysis, England India Series and Kohli, Test Cricket, One Day Cricket, T 20 Cricket, Editorial Article, Mahendra Singh Dhoni



विराट कोहली के पहले महानतम कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने क्रिकेट के सभी प्रारूपों में भारतीय क्रिकेट टीम की कप्तानी एक लंबे समय तक निभाकर बेहतरीन माइलस्टोन सेट कर दिया है. आखिर क्रिकेट के हर फॉर्मेट में शीर्ष पर भारतीय टीम को पहुंचाने का श्रेय धोनी को ही तो जाता है, जो राजनीति से परे हटकर युवा खिलाड़ियों को भविष्य की दृष्टि से टीम में स्थान दिलाता था, तो गुटबाजी से दूर रहकर भारतीय क्रिकेट को निर्विवाद नेतृत्व भी देता था. जब टेस्ट क्रिकेट से महेंद्र सिंह धोनी ने सन्यास लिया और विराट कोहली टीम इंडिया के कप्तान बने, तब कई तरह की शंकाएं व्यक्त की गयी थीं, मसलन विराट कोहली बहुत आक्रामक हैं, नेतृत्व करने की राह में वह धोनी के बराबर साबित होंगे या नहीं, बला बला ...  किंतु एक कंसिस्टेंट परफॉर्मेंस देकर विराट कोहली ने सभी आशंकाओं को निर्मूल साबित कर दिया है. भारत जैसा देश, जहां क्रिकेट को धर्म का दर्जा हासिल है, वहां विराट कोहली की यह लोकप्रियता बेहद खास है, तो उसका कारण उनकी बेहतरीन टेक्निक और क्रिकेट के प्रति उनका समर्पण ही है और इसे उन्होंने बार-बार साबित भी किया है. अपनी टीम को विजय रथ पर बिठाए विराट कोहली ने हालिया भारत-इंग्लैंड सीरीज में ऐतिहासिक जीत दर्ज की है. न केवल जीत हासिल की है, बल्कि कप्तान और बल्लेबाज के तौर पर उन्होंने कई रिकॉर्ड भी बना डाले हैं. बेहद खास इस सीरीज जीत से पहले चार और टेस्ट सीरीज कोहली मजबूती से जीत चुके हैं, वह भी लगातार! साल 2015 में श्रीलंका को 2 - 0 से, साउथ अफ्रीका को 3 - 0 से, जबकि साल 2016 में वेस्टइंडीज को 2 - 0 से और न्यूजीलैंड को 3 - 0 से! अब इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज में उन्होंने फिर 3 - 0 की अजेय जीत हासिल कर ली है. भारत के लिए बेहद गर्व की बात है कि विराट कोहली ने पूर्व भारतीय टेस्ट कप्तानों महेंद्र सिंह धोनी, सौरभ गांगुली और राहुल द्रविड़ जैसे महान खिलाड़ियों को भी पीछे छोड़ दिया है, और अब वह देश के सबसे सफल टेस्ट कप्तान बन गए हैं. Virat Kohli, Hindi Article, New, Indian Player, Cricket Analysis, England India Series and Kohli, Test Cricket, One Day Cricket, T 20 Cricket, Editorial Article, Mahendra Singh Dhoni

अगर बात महेंद्र सिंह धोनी की करते हैं, जो अब तक सर्वाधिक सफल टेस्ट कैप्टन रहे हैं, तो टीम इंडिया ने धोनी की कप्तानी में 60 टेस्ट मैच खेले थे, जिसमें 27 में जीत और 18 में हार हुई, तो 15 मैच ड्रा रहे थे. मतलब जीत का प्रतिशत यहां 45 फीसदी था, वहीं विराट कोहली ने 21 टेस्ट मैचों में 13 में जीत जबकि मात्र 2 में हार का स्वाद लिया है, जबकि 6 मैच ड्रा रहे हैं. अतः उनकी कप्तानी में टीम इंडिया की जीत का प्रतिशत 61.90 यानी लगभग 62 के करीब हो चुका है. साफ तौर पर विराट कोहली ने भारतीय क्रिकेट को एक नई ऊंचाई प्रदान की है. हालांकि इंग्लैंड के एक क्रिकेट खिलाड़ी ने उनकी बल्लेबाजी टेक्निक की आलोचना की है, किन्तु वह आलोचना हार से उत्पन्न हुई खीझ भर ही है. विराट जैसे घरेलू मैदान पर खेलते हैं, वैसे ही विदेशी धरती पर भी विराट कोहली का बल्ला उतनी ही मजबूती से दहाड़ता रहा है. आंकड़े इसके गवाह रहे हैं और महेंद्र सिंह धोनी के बाद विदेशी धरती पर विराट का कप्तान के तौर पर प्रदर्शन दुसरे नंबर पर रहा है. अबकी तो इंग्लैंड के खिलाफ दोहरा शतक जमाकर टेस्ट बल्लेबाजों की रैंकिंग में कोहली करियर की सर्वश्रेष्ठ, यानी दूसरे पायदान पर पहुंच गए हैं. गौरतलब है कि T20 बल्लेबाजों की रैंकिंग में पहले स्थान पर पहले ही थे, जबकि वनडे बल्लेबाजों की रैंकिंग में दूसरे स्थान पर और अब वह टेस्ट प्रारूप में भी दूसरे स्थान पर काबिज हो चुके हैं. जाहिर है क्रिकेट के सभी फॉर्मेट में अब वह शीर्ष स्थान से कुछ ही कदम दूर हैं. अपनी इस जीत से आईसीसी टेस्ट टीम की रैंकिंग में भारत 115 अंक लेकर शीर्ष पर विराजमान हो गया है, जबकि इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया 105 के साथ दूसरे और तीसरे पायदान पर हैं. आंकड़े सब कहानी कह देते हैं और शायद यही कारण है कि क्रिकेट की विश्व बिरादरी विराट की तारीफ करने में जरा भी कंजूसी नहीं कर रही है. सुनील गावस्कर से लेकर सौरव गांगुली जैसे देशी और डीन जोंस, नासिर हुसैन जैसे विदेशी खिलाड़ियों ने विराट कोहली की जमकर तारीफ की है. वेस्टइंडीज के धुरंधर बल्लेबाज क्रिस गेल ने तो साफ तौर पर कहा है कि विराट के इस प्रदर्शन से वह बिल्कुल भी हैरान नहीं हैं, क्योंकि उनको पता है कि विराट शानदार बल्लेबाज हैं और आगे इससे भी बेहतर प्रदर्शन वह कर सकते हैं. Virat Kohli, Hindi Article, New, Indian Player, Cricket Analysis, England India Series and Kohli, Test Cricket, One Day Cricket, T 20 Cricket, Editorial Article, Mahendra Singh Dhoni

इसी कड़ी में,  क्रिकेट के मैदान में भारत के पुराने प्रतिद्वंदी पाकिस्तान के मुख्य चयनकर्ता इंजमाम उल हक तो कई कदम आगे बढ़कर विराट कोहली की तकनीक को लेकर टिप्पणी करने वाले जेम्स एंडरसन की खिंचाई कर चुके हैं. बताते चलें कि अंग्रेज खिलाड़ी एंडरसन ने अभी हाल ही में कहा था कि भारतीय पिचों में ज्यादा उछाल नहीं होती है, और इसलिए कोहली की तकनीकी कमियां उजागर नहीं हो सकी हैं. इस संबंध में इंजमाम ने साफ कहा है कि वह हैरान हैं, क्योंकि एंडरसन ने कोहली के रन और क्षमता पर तो उंगली उठाई है, लेकिन भारत में उन्होंने कभी भी ज्यादा विकेट नहीं लिया है. अंग्रेज खिलाड़ी की खिंचाई करते हुए पूर्व पाकिस्तान क्रिकेट कप्तान ने यह भी कहा है कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है कि रन कहां बने हैं, बल्कि रन बनना चाहिए और इस लिहाज से कोहली बेहतरीन खिलाड़ी हैं, क्योंकि उनमें रनों की भूख है. उम्मीद की जानी चाहिए कि आने वाले दिनों में क्रिकेट के सभी प्रारूपों में अपनी बेहतर कप्तानी और एक उम्दा खिलाड़ी के रूप में विराट टीम इंडिया के हितों को आगे बढ़ाते रहेंगे. कोहली की ही तरह, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड से भी उम्मीद की जानी चाहिए कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश में गठित लोढा कमिटी की सिफारिशों को भी लागू करेगी, ताकि क्रिकेट सीरीजों पर वैसा संकट नहीं उत्पन्न हो, जैसा कि भारत-इंग्लैण्ड सीरीज के ठीक पहले हुआ था. शायद तभी भारतीय क्रिकेट समग्र रूप से प्रगति कर सकता है, इस बात में दो राय नहीं!

- मिथिलेश कुमार सिंह, नई दिल्ली.




ऑनलाइन खरीददारी से पहले किसी भी सामान की 'तुलना' जरूर करें 
(Type & Search any product) ...



Virat Kohli, Hindi Article, New, Indian Player, Cricket Analysis, England India Series and Kohli, Test Cricket, One Day Cricket, T 20 Cricket, Editorial Article, Mahendra Singh Dhoni
मिथिलेश  के अन्य लेखों को यहाँ 'सर्च' करें...
(
More than 1000 Hindi Articles !!)


loading...
Powered by Blogger.