चीन द्वारा 'एनपीटी' एवं अंतरराष्ट्रीय नियमों के उल्लंघन की अनदेखी है खतरनाक! China Violates NPT, International Law, South China Sea, Hindi Article, New, Mithilesh



समय समय पर चीन अपनी दोहरी नीति का प्रदर्शन करता ही रहता है. कुछ ही महीनों पहले जब भारत को एनएसजी (न्यूक्लियर सप्लायर ग्रुप) में प्रवेश के लिए अनेक देशों का साथ मिला, तब चीन समेत कुछ और देशों ने इसका कड़ा विरोध किया था, जिसके फलस्वरूप भारत एनएसजी की सदस्यता पाने से चूक गया. देखा जाय तो चीन ने जिस मुद्दे को लेकर भारत का विरोध किया था, बरसों से वह खुद वही काम कर रहा है. भारत के एनएसजी में प्रवेश के लिए चीन ने जिस परमाणु अप्रसार संधि (NPT) का रट्टा लगा रखा है, उसी का उल्लंघन करते हुए पाकिस्तान को न्यूक्लियर रिएक्टर्स मुहैया करा रहा है. अगर इस सम्बन्ध में गहराई से देखा जाय तो कोई भी NSG सदस्य देश दो परमाणु रिएक्टर्स उपलब्ध करा सकता है, जो परमाणु अप्रसार संधि के नियम का उल्लंघन होने के बावजूद भी मान्य हैं. लेकिन चीन ने नियमों को ताक पर रखते हुए (China Violates NPT, International Law) पाकिस्तान को पुरे 6 न्यूक्लियर रिएक्टर्स उपलब्ध कराये हैं. यह बात एक रिपोर्ट में पूरी तरह साफ़ हो चुकी है. जाहिर है चीन द्वारा नियमों के इस तरह का उल्लंघन घातक है, वह भी पाकिस्तान जैसे देश के साथ क्योंकि दुनिया का सबसे  खतरनाक आतंकवादी ओसामा बिन लादेन वहां की सरकार के संरक्षण में छुपा हुआ था. 

इसे भी पढ़ें: टेरिटोरियल आर्मी: देशभक्ति के ज़ज्बे को सलाम


China Violates NPT, International Law, South China Sea, Hindi Article, Dangerous Countries for the World
विश्व समुदाय को समझना चाहिए कि अगर चीन पाकिस्तान को इस तरह की न्यूक्लियर सुविधाएं पहुंचा सकता है तो क्या गारंटी हैं कि उसकी सरकारी नीति उत्तर कोरिया जैसे देश को परमाणु हथियार विकसित करने में सहायता नहीं कर रही है. सब कुछ जानने समझने के बावजूद जिस प्रकार विश्व समुदाय चीन की हरकतों पर चुप्पी साढ़े हुए है, वह खतरनाक हैं. अगर गैर-एनपीटी भारत NSG में शामिल हो परमाणु अप्रसार के प्रयासों को जब चोट पंहुचा सकता था, तो क्या 2010 में एनपीटी रिव्यू कॉन्फ्रेंस में रखे प्रस्ताव का उल्लंघन करते हुए चीन NSG और NPT के परमाणु अप्रसार की सुरक्षा कर रहा है? बेशक नहीं! सच कहा जाए तो भारत के परमाणु अप्रसार का रिकॉर्ड चीन से कहीं ज्यादा साफ़ सुथरा है. जाहिर है, चीन के इस रवैये को NSG और NPT में बिलकुल भी अनदेखा नही करना चाहिए. ऐसे में चीन की इस तरह की हरकतों पर लगाम लगाने की आवश्यकता महसूस की जानी चाहिए. हालाँकि, जब अंतरराष्ट्रीय अदालत द्वारा दक्षिणी चीन सागर पर आये फैसले को चीन नहीं मान रहा है (China Violates NPT, International Law, South China Sea, Hindi Article) तो उसकी नीयत को लेकर अब कुछ और सोचना समझना बाकी नहीं रह जाता है. ऐसे में सवाल उठता है कि क्या परमाणु शक्ति के फैलाव की यूं खुली इजाजत चीन को दी जा सकती है? 

इसे भी पढ़ें: दक्षिण चीन सागर पर चीन का मनमाना रवैया! 

China Violates NPT, International Law, South China Sea, Hindi Article, New, China Violates International Court Orders
आर्म्स कंट्रोल असोसिएशन (एसीए) रिपोर्ट के अनुसार साफ तौर पर पाकिस्तान को परमाणु रिएक्टर्स देना  एनपीटी के नियमों का उल्लंघन है, क्योंकि पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए) के मानकों को पूरा नही करता है. बताते चलें कि परमाणु अप्रसार संधि की घोषणा 1970 में हुई थी, जिसके अनुसार इस पर साइन करने वाले 187 देश अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी के देखरेख में परमाणु ऊर्जा का इस्तेमाल सिर्फ शांतिपूर्ण उद्देश्यों के लिए ही कर सकते हैं, साथ ही भविष्य में परमाणु हथियार भी विकसित नही कर सकते हैं. ज्ञातव्य हो कि एनपीटी के सहमति दस्तावेजों का उल्लंघन करते हुए 2013 में चीन-पाकिस्तान का चस्मा-3 परमाणु रिएक्टर के लिए समझौता हुआ. हालाँकि, दस्तावेजों में साफ-साफ अक्षरों में लिखा हुआ है कि आईएईए के निर्धारित मानकों को स्वीकार करने वाले देश को ही न्यूक्लियर मटीरियल और टेक्नोलॉजी ट्रांसफर किया जा सकता है. साफ़ तौर पर चीन अंतरराष्ट्रीय कानूनों को लंबे समय से धत्ता बताने की जुर्रत कर रहा है (China Violates NPT, International Law) और चूंकि इस पर रोक लगाने की मंशा नहीं दिखलाई जा रही है इसलिए उसके दुस्साहस का बढ़ना स्वाभाविक ही है. लेकिन चीन का कहना है कि यह समझौता उसने पाकिस्तान के साथ 2003 में किया था जबकि उसे एनएसजी की सदस्यता 2004 में मिली. 

इसे भी पढ़ें: भारत की 'एमटीसीआर' में एंट्री के मायने! 

China Violates NPT, International Law, South China Sea, Hindi Article, New, Mithilesh
साफ़ तौर पर इस प्रकार की बहानेबाजी को अंतरराष्ट्रीय समुदाय को एकजुट होकर ख़ारिज कर देना चाहिए. एक तरफ पाकिस्तान आतंकवाद को संरक्षण दे रहा है और दूसरी तरफ चीन दक्षिण चीन सागर के फैसले के बाद भी अपने कृत्रिम द्वीप पर न्यूक्लियर रिएक्टर लगाने और युद्ध की तैयारी में लगा हुआ है. चीन की नीति और नियति से न केवल एशियाई समुदाय को वरन समूचे विश्व को सावधान रहने की जरूरत है (China Violates NPT, International Law), क्योंकि परमाणु अस्त्र सिर्फ क्षेत्रीय शक्ति संतुलन को ही चुनौती नहीं देते हैं, बल्कि यह पूरे विश्व के लिए एक गंभीर चुनौती बन चुके हैं. चीन जैसे देश इस प्रकार की चुनौतियों और खतरों में बेरोकटोक बढ़ोत्तरी कर रहे हैं, जिसे जल्द से जल्द रोके और टोके जाने की आवश्यकता है. हालाँकि, बिल्ली के गले में घंटी कौन बांधता है, यह जरूर देखे जाने वाली बात होगी!

- मिथिलेश कुमार सिंह, नई दिल्ली.




ऑनलाइन खरीददारी से पहले किसी भी सामान की 'तुलना' जरूर करें 
(Type & Search any product) ...


China Violates NPT, International Law, South China Sea, Hindi Article, New, Mithilesh, foreign policy, Nuclear supplier group, Nuclear reactor, Pakistan, editorial, China, indo china relation, Pakistan, China, Nuclear Reactor, NSG, NPT, IAEA
मिथिलेश  के अन्य लेखों को यहाँ 'सर्च' करें...
(
More than 1000 Hindi Articles !!)


loading...

No comments

Powered by Blogger.